सीबीएसई पेपर लीक मामला : दिल्ली पुलिस ने दो टीचर-एक कोचिंग सेंटर के मालिक को किया गिरफ्तार

सीबीएसई पेपर लीक मामले में शनिवार को दिल्ली पुलिस ने दो टीचर और एक कोचिंग सेंटर के मालिक को गिरफ्तार किया. यह गिरफ्तारी 12वीं क्लास का पेपर लीक होने के मामले में की गई है. पुलिस ने शुरुआती जांच में बताया कि दोनों टीचरों ने सवा नौ बजे पेपर का फोटो खींचा और इसे कोचिंग सेंटर के मालिक को भेज दिया.

मालिक ने इसे आगे अपने छात्रों को फॉरवर्ड कर दिया. हाथ लिखे पेपर भी लीक हुए हैं जिनकी जांच चल रही है. इस मामले में 10वीं और 11वीं के छात्रों सहित अब तक 12 लोगों को झारखंड के चतरा से गिरफ्तार किया जा चुका है.

दसवीं क्लास का गणित और 12वीं का अर्थशास्त्र का पेपर लीक हो जाने से सीबीएसई बोर्ड की काफी किरकिरी हुई है. पुलिस ने इस मामले में शुक्रवार को दसवीं के छह छात्रों को हिरासत में लिया था.

पुलिस ने कहा कि शनिवार को जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें चार दिल्ली के अलग-अलग स्कूलों के छात्र हैं और दो कोचिंग सेंटर के निदेशक हैं. पुलिस ने कहा कि 11वीं के एक छात्र को नवोदय विद्यालय से गिरफ्तार किया गया. उसने स्कूल के बाथरूम में लीक पेपर के जवाब वाली चिट रखी छुपाई थी. उन्होंने बताया कि दो छात्र पटना के हैं.

दिल्ली पुलिस को गूगल से जवाब मिल गया. इससे उस ईमेल आईडी की पहचान हुई, जिससे सीबीएसई अध्यक्ष को 10वीं के गणित के पेपर लीक होने के बारे में एक मेल भेजा गया था. जांच से जुड़े एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारी ने बताया कि 10वीं के एक छात्र को गणित का पेपर वाट्सऐप पर मिला था और उसने सीबीएसई अध्यक्ष को मेल भेजने के लिए अपने पिता के ईमेल आईडी का इस्तेमाल किया.