अब कड़कनाथ मुर्गा घर बैठे मिल सकेगा, हुआ ‘मध्यप्रदेश कड़कनाथ एप’ तैयार

मध्य प्रदेश के झाबुआ सहित कुछ अन्य जिलों में मुर्गा की खास नस्ल पाई जाती है, जिसे कड़कनाथ के नाम से पहचाना जाता है. इस मुर्गा की खासियत है कि इसके मांस में बसा (फैट) कम होता है और प्रोटीन ज्यादा. अब यह मुर्गा आपको घर बैठे मिल सकेगा, क्योंकि इसके लिए सहकारिता विभाग ने ‘मध्यप्रदेश कड़कनाथ एप’ तैयार किया है. इस एप का बुधवार को सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विश्वास सारंग ने लोकार्पण किया.

राज्य मंत्री सारंग ने कहा कि सहकारिता विभाग द्वारा नए कार्यक्रम शुरू किए गए हैं. सहकारिता से अंत्योदय योजना में सहकारी समितियों का गठन कर रोजगार के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए गए हैं. इसी कड़ी में कड़कनाथ मुर्गा-पालन और विक्रय से जुड़ी सहकारी समितियों के लिए ‘मध्यप्रदेश कड़कनाथ मोबाइल एप’ तैयार कर शुरू किया गया है.

उन्होंने बताया कि कड़कनाथ एप के माध्यम से कोई भी व्यक्ति इन समितियों के पास उपलब्ध कड़कनाथ मुर्गा खरीदने के लिए अनलाइन डिमांड कर सकता है. भविष्य में अनलाइन आर्डर के साथ होम डिलीवरी की भी सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी.

राज्य मंत्री सारंग ने कहा कि कड़कनाथ प्रजाति का मुर्गा अन्य प्रजातियों के मुर्गो से बेहतर होता है. इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक और फैट की मात्रा न के बराबर पाई जाती है. यह विटामिन-बी-1, बी-2, बी-6, बी-12, सी, ई, नियासिन, कैल्शियम, फास्फोरस और हीमोग्लोबिन से भरपूर होता है. यह अन्य मुर्गो की तुलना में लाभकारी है. इसका रक्त, हड्डियां और सम्पूर्ण शरीर काला होता है. यह दुनिया में केवल मध्यप्रदेश के झाबुआ और अलीराजपुर में पाया जाता है.

राज्य मंत्री सारंग ने बताया कि उपभोक्ता और व्यापारी एप के माध्यम से समितियों तक पहुंच सकते हैं. एप द्वारा समितियों को एक ऐसा प्लेटफार्म उपलब्ध करवाया जा रहा है, जो उन्हें आधुनिक बाजार की सुविधा देगा. एप में उपलब्ध मेन्यु में सीधे क्लिक करने पर समिति का ई-मेल, फोन और उत्पादन की जानकारी प्राप्त की जा सकती है. मांग और पूछताछ का आप्शन भी दिया गया है. सबमिट बटन पर क्लिक करने से सीधे संस्था को ई-मेल करने की सुविधा है. एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है.