एक्जाम वाले दिन से ठीक एक दिन पहले लीक किए गए थे मैथ्स-इकोनॉमिक्स के पेपर

केंद्रीय माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के पेपर लीक होने के मामले में गुरुवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ‘जिन भी गुनहगारों ने सीबीएसई पेपर लीक का काम किया, उन्‍हें छोड़ेंगे नहीं, सजा दिलाकर रहेंगे.’ मीडिया से बातचीत में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘यह घटना बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण है. मुझे कल रात नींद नहीं आई. मैं छात्रों की पीड़ा समझता हूं.’ उन्‍होंने आगे कहा कि ‘हम भी अभिभावक हैं. छात्रों के माता-पिता का दर्द समझते हैं.’ इसके साथ ही उन्‍होंने इस पूरे मामले पर सीबीएसई का बचाव भी किया और कहा कि बोर्ड की व्‍यवस्‍था बेहद चुस्‍त है. मंत्री ने कहा कि दिल्‍ली पुलिस की क्राइम ब्रांच पूरे मामले की जांच कर रही है और उसने पूछताछ भी शुरू कर दी है, लिहाजा हमें दिल्‍ली पुलिस पर पूरा विश्‍वास है. जावड़ेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मामले पर चिंता जताई है. छात्रों के साथ कोई अन्‍याय न हो, हम इस पर विचार कर रहे हैं. हम सिस्‍टम सुधारेंगे और गुनहगारों को भी पकड़ेंगे.

जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय से पढ़ाई करने वाला कोचिंग सेंटर मालिक गणित एवं अर्थशास्त्र पढ़ाता था. वह मामले में मुख्य संदिग्धों में से एक है. अधिकारी ने कहा कि उन्हें मामले में इस समय केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड( सीबीएसई) के किसी भी अधिकारी की संलिप्तता का कोई सुराग नहीं मिला है. उन्होंने कहा, ‘‘ यह कहना बहुत जल्दबाजी होगी कि इसमें सीबीएसई के अधिकारी शामिल हैं या नहीं, लेकिन अब तक की जांच में इस तरह के संकेत नहीं मिले हैं. हमने लीक पर्चों के स्रोत का पता लगाने के लिए कुछ छात्रों एवं कोचिंग संस्थानों और उनके शिक्षकों से बात की है जिन्हें लीक हुए पर्चों की प्रतियां मिली थीं.’’ दिल्ली पुलिस को वे फोन नंबर मिले हैं जिनसे पर्चे वाले व्हाट्सऐप संदेश फैलाए गए और वह उन फोन नंबर के उपयोगकर्ताओं की पहचान करने में लगी है.

सीबीएसई की दसवीं की गणित और 12वीं के इकोनॉमिक्स के पेपर लीक मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस ने इस मामले में दो एफआईआर दर्ज की है. दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी आरपी उपाध्याय ने मीडिया को केस के अपडे्स बताते हुए कहा, ‘इस केस की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई है और अब तक इस मामले में 25 लोगों से पूछताछ की जा चुकी है. दोनों ही पेपर एक्जाम वाले दिन से ठीक एक दिन पहले व्हाट्स्ऐप के जरिए लीक किए गए थे. स्पेशल सीपी ने बताया कि इस मामले में अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है.

स्पेशल सीपी आरपी उपाध्याय ने बताया, ‘दिल्ली पुलिस ने बताया है कि हम पेपर लीक मामले से जुड़ी तमाम कड़ियों को सुलझाने में जुटे है. सीबीएसई ने अपनी शिकायत में एक ट्यूटर का भी नाम लिया है, जिनसे पूछताछ की जा रही है.’