चीन का स्पेस स्टेशन ‘टियागोंग-1′ दुनिया के 80 प्रतिशत शहरों के लिए बना खतरा

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि अंतरिक्ष में घूम रहा चीन का स्पेस स्टेशन ‘टियागोंग-1 जल्द ही धरती पर गिर सकता है. उन्होंने आशंका जताई है कि धरती की ओर आते हुए ये कई टुकड़ों में बंट जाएगा, जो दुनिया के 80 प्रतिशत शहरों में गिर सकते हैं. 2011 में लॉन्च किए गए इस स्पेस स्टेशन पर से चीन के वैज्ञानिकों ने 2016 में नियंत्रण खो दिया था, तब से ही ये अंतरिक्ष में घूम रहा है.

अंतरिक्ष शोध की दौड़ में आगे निकलने की कोशिश करते हुए चीन ने 2011 में इस स्पेस स्टेशन को लांच किया था और पांच साल बाद इसने अपने मिशन को पूरा कर लिया था. चीन ने साल 2016 में इस बात की पुष्टि की थी कि उनका तियांयोंग-1 से संपर्क टूट गया है और वो इसे नियंत्रित करने में सक्षम नहीं है. जिसके बाद यह अनुमान लगाया जा रहा था कि यह स्पेस स्टेशन वापस पृथ्वी पर गिर जाएगा. अब वैज्ञानिकों ने कहा है कि यह स्पेस स्टेशन धरती की कक्षा में प्रवेश कर चुका है और 31 मार्च से 1 अप्रैल के बीच कभी भी धरती पर गिर सकता है.

बताय जा रहा है कि सबसे बड़ा खतरा स्पेस स्टेशन में मौजूद फ्यूल है, जिसमें हाइड्रोजन मिला हुआ है. वैज्ञानिकों का कहना है कि ‘टियागोंग-1’ साल 2016 से ही अंतरिक्ष में घूम रहा है. इस वजह से वो काफी हद तक नष्ट हो चुका है. अब इसका सिर्फ मलबा ही बचा है जो 100 किलो का है. हालांकि, मलबे से ज्यादा चिंता का विषय उसमें मौजूद जला हुआ फ्यूल है. जिन शहरों में ये स्पेस स्टेशन का फ्यूल गिरेगा, वहां की हवा में हाइड्रोजन मिल जाएगा. इससे लोगों को आखों और गले में जलन, थकान जैसी समस्याओं के साथ ही कैंसर होने का भी खतरा है.