चमोली : मुख्यमंत्री ने उर्गम जल विद्युत परियोजना का लोकार्पण किया

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को कल्पगंगा नदी पर उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम (यूजेवीएन) द्वारा निर्मित 3 हजार किलोवाट की ‘‘उर्गम जल विद्युत परियोजना‘‘ का लोकार्पण किया. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र पीपलकोटी से कार द्वारा हेलंग पहुॅचे तथा अलकनंदा की सहायक कल्पगंगा नदी पर पुनर्निर्मित इस जल विद्युत परियोजना का उद्घाटन किया.

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि कल्पगंगा नदी पर बनी यह परियोजना पर्वतीय क्षेत्र के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परियोजना से उत्पादित विद्युत से जहाँ भरकी, भेटा, उर्गम, चाई-थाई, सलना, जोशीमठ, बडगाॅव सहित समीपवर्ती क्षेत्रों के लगभग 25 गाॅवों की विद्युत आपूर्ति में सुधार होगा वही स्थानीय बेरोजगार युवकों को इस परियोजना से रोजगार मिलेगा.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में लघु जल विद्युत परियोजनाओं की आपार सम्भावनाऐं है तथा छोटी-छोटी जल विद्युत परियोजनाओं से जल शक्ति का पूरा सदुपयोग हो सकता है. कार्यक्रम के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता लक्ष्मण नेगी ने मुख्यमंत्री को कल्पेश्वर महादेव का प्रतीक चिन्ह भी भेंट किया.

जून 2013 की आपदा में क्षतिग्रस्त उर्गम जल विद्युत परियोजना के पुनर्निर्माण के लिए उत्तराखण्ड सरकार द्वारा 13.05 करोड़ की धनराशि उपलब्ध करायी गयी थी. आपदा के दौरान बाढ़ से इस परियोजना का हैड वक्र्स, पावर डक्ट, विद्युत गृह, टीआरसी तथा लगभग 100 मीटर शक्तिनहर क्षतिग्रस्त होने के कारण विद्युत उत्पादन बन्द हो गया था.

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने शुक्रवार को ही पीपलकोटी में स्वामी विवेकानंद चैरिटेवल ट्रस्ट द्वारा संचालित चिकित्सालय का भी अवलोकन किया. उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा तथा स्थानीय लोगों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने मेें यह चिकित्सालय लाभकारी साबित होगा. मुख्यमंत्री ने पीपलकोटी में चल रहे सेना भर्ती पूर्व प्रशिक्षण शिविर में पहुंचकर प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे युवाओं से भी भेंट की तथा उनका मनोबल बढाया.

इस अवसर पर बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट, ऊर्जा सचिव राधिका झा, नगर पालिका अध्यक्ष जोशीमठ रोहिणी रावत, महाप्रबन्धक जल विद्युत निगम अजय पटेल सहित जनप्रतिनिधि एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे.