आईपीएल 2018 : पहली बार लागू होगा डीआरएस

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 11वां सीजन 7 अप्रैल से शुरू हो रहा है. इस सीजन में डिसिजन रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) का इस्तेमाल किया जाएगा. बुधवार को आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला ने इसकी पुष्टि कर दी. आईपीएल के इतिहास यह पहली बार होगा जब डीआरएस सिस्टम लागू होने जा रहा है. फिलहाल, इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट में एक टीम को एक पारी में एक बार टीवी रिप्ले के इस सिस्टम का उपयोग करने की अनुमति है.

इसके साथ ही आईपीएल दुनिया की दूसरी टी20 लीग बन जाएगी जिसमें डीआरएस लागू होगा. इससे पहले पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में यह पहले से लागू है.राजीव शुक्ला ने मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में डीआरएस लागू किए जाने की पुष्टि करते हुए कहा, ‘हां, इसे लेकर काफी सालों से बात हो रही थी.’

राजीव शुक्ला दरअसल आईपीएल के टाटा नेक्सन कार के साथ तीन साल के करार की घोषणा के बाद मीडिया से बात कर रहे थे. इस दौरान यह भी घोषणा की गई कि आईपीएल के हर मैच में सर्वश्रेष्ठ स्ट्राइक रेट वाले खिलाड़ी को भी इनाम दिया जाएगा. साथ ही लीग के अंत में सबसे बेहतरीन स्ट्राइक रेट वाले खिलाड़ी को एक नेक्सन कार दी जाएगी. आईपीएल का 11वां सीजन 7 अप्रैल से 27 मई के बीच खेला जाना है.

गौरतलब है कि बीसीसीआई लंबे समय तक डीआरएस सिस्टम का विरोध करती रही थी. हालांकि, 2016 में इंग्लैंड दौरे के दौरान पहली बार बोर्ड इसे लागू करने को लेकर तैयार हुआ. माना जा रहा है कि आईपीएल-2018 में डीआरएस को लागू करने पर सहमति पिछले दिसंबर में विशाखापट्टन में हुई बैठक में ही बन गई थी. उस बैठक में ही आईसीसी अंपायर कोच और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंजबाज पॉल रीफल ने देश के शीर्ष-10 अंपायरों को इस तकनीक के बारे में विस्तार से बताया था.