अगर आपकी हथेली हैं ऐसी, तो मिलती है हर सुख-सुविधा

हस्तरेखा शास्त्र में हथेली का गुरु पर्वत और मस्तिष्क रेखा का विशेष महत्व है. हथेली का गुरु पर्वत व्यक्ति की नेतृत्व और शासक क्षमता को दर्शाता है. साथ ही गुरु पर्वत व्यक्ति के आचार-विचार को भी मजबूत बनाता है.

गुरु पर्वत व्यक्ति की आर्थिक स्थिति के बारे में भी बहुत सारी बातों को दर्शाता है. हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार यदि हथेली का गुरु पर्वत पुष्ट और ऊंचाई लिए है, तो ऐसा व्यक्ति रुपए-पैसे के पीछे नहीं भागता है.

ऊंचाई लिए गुरु पर्वत-:
जिनकी हथेली का गुरु पर्वत अधिक ऊंचाई लिए होता है वे पैसों के पीछे ना भागकर अपनी नजर सफलता के शिखर पर रखते हैं. ऐसे लोग किसी भी कार्य को कानून के दायरे में रखकर करना पसंद करते हैं. ये लोग खाने-पीने के मामले में अन्य की अपेक्षा अधिक शौकीन होते हैं. परिवार के साथ इनका लगाव-जुड़ाव अत्यधिक होता है.

शनि पर्वत की ओर झुका गुरु पर्वत-:
यदि गुरु पर्वत का स्वरुप देखने में किसी पर्वत अथवा शुखर के समान लगे तो यह व्यक्ति गुण-दोषों को दर्शाता है. यदि हथेली का गुरु पर्वत शनि पर्वत की ओर झुका है तो व्यक्ति अनुशासन प्रिय और गंभीर प्रकृति का माना जाता है.

ऐसा व्‍यक्‍ति उदासी और उपेक्षा के भाव से घिर सकता है. यदि ऐसा शिखर हृदय रेखा के पास हो तो व्यक्ति पारिवारिक जिम्मेदारी को बखूबी निभाने वाला माना जाता है. साथ ही परिवार में सामंजस्य स्थापित करने वाल माना जाता है.

साभार- हरिभूमि