व्यापम केस: CBI ने एक ही दिन में किए 20 अधिकारियों के ट्रांसफर, कांग्रेस ने जताया शक

सीबीआई ने 2016 में व्यापम ब्रांच बनाई थी और इसमें 100 अधिकारियों की तैनाती की थी, जिसमें डीआईजी, एएसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर्स तैनात किए गए थे. सूत्रों के अनुसार 20 अधिकारियों समेत लगभग 70 फीसदी स्टाफ पिछले 6 महीने में व्यापम टीम से हटाया गया है.

व्यापम केस में सीबीआई ने बड़ा कदम उठाते हुए ‘व्यापम स्कैम ब्रांच’ से 20 अधिकारियों को बाहर निकाल दिया, जबकि इस मामले में 50 से अधिक मामले लंबित हैं. व्यापम टीम से हटाए गए सभी अधिकारियों को एंटी करप्शन ब्रांच दिल्ली ट्रांसफर किया गया है.

कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने कहा कि विपक्ष इस मसले पर सवाल उठाएगा. कांग्रेस ने व्यापम केस में बड़ी उम्मीद के साथ सीबीआई जांच की मांग की थी लेकिन इस मामले में ऐसे कई लोगों को क्लीन चिट मिल गई जोकि इस मामले पर नियंत्रण कर रहे थे.

वहीं सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि 40 से 50 लंबित मामलों की जांच एडवांस स्टेज पर थी. जबकि 100 मामलों में चार्जशीट दाखिल हो चुकी थी और उनका ट्रायल चल रहा है. कुछ अधिकारियों का रुटीन की वजह से ट्रांसफर किया गया है. ब्रांच को बंद करने की कोई वजह नहीं है.

सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने 13 जुलाई 2015 को जब व्यापम केस को मध्यप्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स से लिया था तब विपक्ष को लगा था कि इस मामले में फौरन कार्रवाई होगी. सीबीआई के पूर्व डायरेक्टर ने 40 लोगों की टीम भी बनाई थी लेकिन सूत्रों से जानकारी मिली कि जब अधिकारियों की तैनाती की गई थी तब उनका व्यापम केस में खास रुझान नहीं था. सीबीआई ने कई ब्रांचों से अधिकारियों को बुलाकर भोपाल भेजा था.