हार्दिक ने कहा, यदि उन्होंने राहुल गांधी से भेंट की होती तो कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलता

रविवार को पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात नहीं करना एक भूल थी और यदि उन्होंने मुलाकात की होती तो भाजपा राज्य में सत्ता में नहीं आ पाती.

पाटीदार आरक्षण आंदोलन के अगुवा 24 वर्षीय हार्दिक ने कहा कि यदि उन्होंने गांधी से भेंट की होती तो विपक्षी पार्टी (कांग्रेस) को पूर्ण बहुमत मिलता.

यहां इंडिया टूडे के कॉक्लेव में उन्होंने कहा कि मैंने पहले भी कहा है और अब भी कह रहा हूं.मैं राहुल गांधी से नहीं मिला.यदि मैं ममता बनर्जी, नीतीश कुमार और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से खुलेआम मिल सकता हूं तो राहुल गांधी से मिलने मे कोई दिक्कत (मुद्दा) नहीं थी. उन्होंने कहा कि यह भूल थी. यदि मैं उनसे मिला होता तो भाजपा 99 नहीं 79 सीटें जीतती.

दिसंबर में गुजरात में चुनाव में भाजपा 182 सदस्यीय विधानसभा में 99 सीटें जीती. कांग्रेस ने अपनी सीटें जरुर बढ़ाई लेकिन वह भगवा दल को सत्ता से हटा नहीं पायी. हफ्तों तक खींचतान चलने के बाद हार्दिक पटेल ने नवंबरके अंत में घोषणा की थी कि उनकी पाटीदार अनामत आंदोलन समिति गुजरात चुनाव में कांग्रेस का समर्थन करेगी.

कांग्रेस ने पटेलों के लिए आरक्षण की समिति की मांग मान ली थी. हार्दिक ने कहा कि जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार थे, तब हमने भी उन्हें वोट दिया था. हमने सोचा था कि इस देश के युवाओं को रोजगार मिलेगा. इस देश के किसानों को अपनी उपज का उचित दाम मिलेगा लेकिन ये चीजें नहीं हुईं.