हमारा लक्ष्य सामाजिक न्याय है : मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भारत में सामाजिक न्याय हासिल करने के लिए लक्ष्य निर्धारित किया. उन्होंने कहा कि राष्ट्र के पास पहले से ही श्रम शक्ति, कौशल और संसाधन हैं, देश को सकारात्मक बदलाव लाने के लिए बस मिशन मोड पर काम करने की जरूरत है.

प्रधानमंत्री ने मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) में भारत की स्थिति में सुधार लाने के मकसद से ‘विकास प्रक्रिया में सार्वजनिक भागीदारी’ पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि प्रतिस्पर्धी और सहकारी संघवाद की भवाना देश के लिए अच्छी है और इसे बढ़ावा देना चाहिए.

मोदी ने यहां राष्ट्रीय जनप्रतिनिधि सम्मलेन को संबोधित करने के दौरान कहा, “जन भागीदारी से हमेशा लाभ होता है. जहां भी अधिकारियों ने लोगों के साथ काम किया और उन्हें विकास प्रक्रिया में शामिल किया, वहां परिवर्तनकारी परिणाम सामने आए.” उन्होंने कहा, “हर राज्य में कुछ ऐसे जिले हैं, जहां विकास मापदंड मजबूत हैं. हम उनसे सीख सकते हैं और कमजोर जिलों पर काम कर सकते हैं.”

प्रधानमंत्री ने जनप्रतिनिधि सम्मेलन आयोजित कराने के लिए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के प्रयासों की सराहना की और कहा, “यह अच्छी बात है कि विभिन्न राज्यों के विधायक महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक साथ आ रहे हैं.”

मोदी ने इस बात का भी जिक्र किया कि उन क्षेत्रों की पहचान करना जरूरी है जहां जिलों को सुधार की जरूरत है और फिर उनकी कमियों से निपटा जाना चाहिए. मोदी ने कहा, “जैसे ही हम जिलों में एक भी पहलू में बदलाव करने का फैसला करते हैं, हम अन्य कमियों पर काम करने की गति पा लेते हैं.”

उन्होंने कहा, “भारत के पास श्रम शक्ति है. हमारे पास कौशल और संसाधन हैं. सकारात्मक बदलाव के लिए हमें मिशन मोड पर काम करने की जरूरत है. हमारा लक्ष्य सामाजिक न्याय है.”