पाकिस्तान कब तक दबाव झेल पाता है : भारतीय सेना

इस साल पाकिस्तान की तरफ से दो बार घुसपैठ की कोशिश की जा चुकी है और सैकड़ों बार सीजफायर का उल्लंघन किया गया है. भारत की तरफ से मुंहतोड़ जवाब दिए जाने के बाद पाकिस्तान की हरकतों में बदलाव किया जा सकता है.

पाकिस्तान की तरफ से लगातार हो रही घुसपैठ की कोशिशों और सीजफायर उल्लंघन के बीच भारत ने तय किया है कि सीमा से सटे इलाकों में सेना नहीं हटाई जाएगी.

एक अखबार से बात करते हुए सेना के अधिकारी ने कहा कि इस वक्त हमारा विश्वास है कि पाकिस्तान की सेना पर दबाव बनाया रखा जाए. यह दबाव तब तक रहेगा जब तक पाक आर्मी खुद अपने कदम पीछे नहीं करती है.

उन्होंने कहा कि हम भी देखते हैं कि कब तक पाकिस्तान यह दबाव झेल पाता है. अभी के हालातों से साफ है कि न तो डीजीएमों स्तर की चर्चा की जाएगी और न ही शांति बहाली के नाम पर भारत पीछे हटेगा.

अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान की सेना की मदद से ही घुसपैठ की कोशिश की जाती हैं. अब तक 300 से 400 आतंकियों ने घुसने की कोशिश की है. जिनमें से ज्यादातर को सेना ने मार गिराया है. उन्होंने बताया कि एलओसी के पास बलोनी, कलाल, केरन और डोडा जैसे इलाकों में पाकिस्तान की चौकियों को गिराया जा चुका है.

भारत-पाकिस्तान सीमा पर भारतीय सेना अपने कदम पीछे करने के मूड में नहीं है. हालांकि दोनों देशों के तनाव के बीच सीमा के ग्रामीण इलाकों में भारी नुकसान हो रहा है.बावजूद इसके भारतीय सेना पाकिस्तान पर दबाव बनाए रखेगी.