पीएनबी के पैसों से नीरव मोदी ने फर्जी तरीके से खरीदी विदेश में जमीन

आभूषण कारोबारी नीरव मोदी

नीरव मोदी ग्रुप ने फर्जी तरीके से जो रकम पंजाब नैशनल बैंक के जरिए जुटाई थी, उसके एक हिस्से का इस्तेमाल विदेश में अचल संपत्ति खरीदने में किया गया था. मोदी ग्रुप ने पीएनबी की ओर से जारी की गई गारंटी के जरिए भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं से पैसे हासिल किए थे. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का मानना है कि इसमें से कुछ रकम से विदेश में प्रॉपर्टी खरीदी गई.

ईडी के सूत्रों ने बताया कि जांच की इस दिशा से एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट के लिए संभवत: उन देशों से अपराध के जरिए हासिल संदिग्ध रकम को रिकवर करने में आसानी हो सकती है, जहां मोदी के बिजनस इंट्रेस्ट हैं. एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट ने ऐसे 13 देशों की पहचान की है. ईडी की अदालत ने इन देशों में अपने समकक्षों को लेटर्स रोगेटरी भेजकर जांच में उनकी मदद मांगी है.

धोखाधड़ी से हासिल रकम को प्रॉपर्टी में लगाए जाने के अलावा इस रकम का एक हिस्सा मोदी की कंपनियों ने विदेशी बैंकों से लिए गए उधार को चुकाने में भी किया था. एक सूत्र ने बताया, ‘हमारे पास यह मानने का आधार है कि मोदी की कंपनियों ने पंजाब नैशनल बैंक से जारी किए गए लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं से जुटाई गई रकम से विदेशी लेंडर्स के लोन सेटल किए.’ जिन 13 देशों को लेटर्स रोगेटरी भेजे गए हैं, उनमें अमेरिका, ब्रिटेन, हॉन्ग कॉन्ग, यूएई, सिंगापुर, साउथ अफ्रीका, मलयेशिया, आर्मीनिया, फ्रांस, चीन, जापान, रूस और बेल्जियम शामिल हैं.