श्रीलंका : तीसरे दिन भी कर्फ्यू जारी

श्रीलंका के कैंडी जिले में बुधवार को लगातार तीसरे दिन कर्फ्यू जारी रहा. कैंडी में बौद्धों और मुस्लिमों के बीच संघर्ष के बाद कर्फ्यू लगाया गया है. सांप्रदायिक हिंसा में दो लोगों की मौत हुई है और कई अन्य घायल हुए हैं.

मुस्लिमों के एक समूह द्वारा कथित रूप से बौद्ध समुदाय के एक शख्स की हत्या के बाद संघर्ष की शुरुआत रविवार को देश के मध्य हिस्से से शुरू हुई. करीब 20 दुकानों को जला दिया गया, मकानों को फूंक दिया गया जिसमें जलकर मुस्लिम समुदाय के एक व्यक्ति की मौत हो गई. हिंसा के मामलों में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस प्रवक्ता एस.पी. रुवान गुनासेकरा ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया कि रविवार रात से लागू कर्फ्यू में अगले आदेश तक विस्तार कर दिया गया है क्योंकि कैंडी जिले में कई हिंसक घटनाओं की खबरें आईं हैं.

मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि मंगलवार रात को कर्फ्यू और आपातकाल के विरोध में सड़कों पर उतरी भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिस को हवा में फायर करने के लिए मजबूर होना पड़ा. गुनासेकरा ने कहा कि सुरक्षा सख्त कर दी गई है और कैंडी के लिए विशेष पुलिस दस्तों को भेजा गया है.

गुनासेकरा ने कहा, “मौके पर भारी पुलिस बल, विशेष बलों और सेना की मौजूदगी है. यहां बहुत सी घटनाएं हुई हैं जिसके कारण कर्फ्यू को दोबारा से लागू किया गया है.”

अभी तक पुलिस ने मंगलवार रात को हिसा की शुरुआत के आरोप में सात से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है. जिले में व्यापारिक प्रतिष्ठान और स्कूल बंद हैं.

हिंसा के बढ़ने के कारण राष्ट्रपति मैत्रीपला सिरिसेना ने मंगलवार को 10 दिन के राष्ट्रव्यापी आपातकाल की घोषणा की. 2009 में गृह-युद्ध के समाप्त होने के बाद देश में पहली बार आपातकाल लागू किया गया है.

राष्ट्रव्यापी संबोधन में सिरिसेना ने शांति की अपील की.साथ ही उन्होंने सांप्रदायिक हिंसा को भड़काने के मकसद से अफवाह और हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है. कई मंत्रियों ने भी कैंडी का दौरा कर शांति की अपील की.