झंडा मेला : मेले की तैयारियां तेज, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने भी दी बधाई

श्री दरबार साहिब मेला संचालन समिति को झंडा जी मेले के लिए लाखों श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. उसी हिसाब से तैयारियों को अंजाम दिया जा रहा है. करीब साढ़े तीन सौ साल पुराने झंडा जी मेले को लेकर श्रद्धालुओं में काफी उत्साह देखा जा रहा है.

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भी प्रदेशवासियों को इस अवसर पर बधाई व शुभकामनाएं दी. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रेम, सद्भावना, भाईचारा, मानवता व विश्वास से ओत-प्रोत ऐतिहासिक झंडा मेला विशिष्ट परंपराओं को समेटे है. झंडा मेला विश्वास और श्रद्धाभाव का मेला है. उन्होंने कहा कि श्री गुरू राम राय जी महाराज की सीख एवं उनका संदेश आज कहीं अधिक प्रासंगिक है. हमें अपनी इस सौहार्दपूर्ण परम्परा को बनाये रखना है तथा समाज के हर वर्ग की राज्य के विकास में भागीदारी सुनिश्चित करनी है.

झंडा जी मेले में शामिल होने के लिए देश विदेश से बड़ी संख्या में संगतें श्री दरबार साहिब पहुंचने लगी हैं. देर शाम तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, यूपी, राजस्थान समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से भारी संख्या में श्रद्धालुओं पहुंचे.

हरेक साल की तरह इस बार भी नब्बे फीट ऊंचे झंडा पर जी सादे, मारकीन और दर्शनी गिलाफ चढ़ाए जाएंगे. यह उत्सव गुरु राम राय महाराज के जन्मदिवस के अवसर पर किया जाता है. नित्य पूजा क्रम के बाद श्री दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेन्द्र दास ने संगतों को दर्शन दिए.

उन्होंने मेले के कुशल संचालन के लिए मेला प्रबंधन व संगतों को जरूरी दिशा निर्देश भी दिए. रविवार को मेला स्थल श्रद्धालुओं से खचाखच भरा हुआ था. दरबार मेला संचालन समिति के प्रबंधक केसी जुयाल ने कहा कि मेला प्रबंधन की ओर से संगतों के भोजन, ठहरने, पानी व स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर विशेष व्यवस्था की गई है.

श्री दरबार साहिब के सेवादार संगतों की आवभगत व उनके रहने खाने की व्यवस्था में जुटे हैं. एसजीआरआर बिंदाल, बांबे बाग, तालाब, मातावाला बाग, राजा रोड समेत शहर की विभिन्न धर्मशालाओं में संगतों की रहने की व्यवस्था की गई है.