उत्तराखंड : 1309 केन्द्रों पर होगी बोर्ड परीक्षा, तैयारियां पूरी

उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षाएं 6 मार्च (सोमवार) से प्रदेशभर के 1309 परीक्षा केंद्रों पर शुरू होगी, परीक्षाओं को परिषद ने अंतिम रूप दे दिया है. इस वर्ष हाईस्कूल में 149445 और इंटर में 132381 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं.

परीक्षाओं को नकलविहिन बनाने के लिए कई फ्लाइंग टीमों का गठन किया गया है. बोर्ड मुख्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष बोर्ड परीक्षा में कुल 281826 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं.

हाईस्कूल संस्थागत में 144518 व व्यक्गित में 4927 छात्र-छात्राएं शामिल है. जबकि इंटरमीडिएट संस्थागत में 124888 व व्यक्तिगत में 7493 छात्र-छात्राओं ने पंजीकरण कराया है. परीक्षाओं के लिए प्रदेश में कुल 1309 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं, इसमें 230 संवेदनशील तथा 28 अतिसंवेदनशील हैं. उत्तरपुस्तिकाओं के संकलन के लिए 13 मुख्य संकलन केंद्र व 23 उपसंकलन केंद्र बनाये हैं.

उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य 30 मूल्यांकन केंद्रों पर एक अप्रैल से 15 अप्रैल तक होगा. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार परीक्षाओं को नकलविहित बनाने के लिए बोर्ड से राज्य स्तर पर दो, मंडल स्तर पर चार, बोर्ड स्तर पर तीन प्लाइंग टीमें बनाई गई हैं. जबकि जिला स्तर पर मुख्य शिक्षा अधिकारी ने आवश्यकता के अनुसार सचल दल का गठन किया गया है.

परीक्षा केंद्रों पर धारा 144 लागू
पांच मार्च से होने वाली बोर्ड परीक्षा के लिए प्रशासन ने भी तैयारियां पूरी कर ली हैं. मिली जानकारी के अनुसार परीक्षा केंद्रों के पास धारा 144 लागू कर दी गई है. केंद्रों के समीप बिना अनुमति के रैली निकालना, सभा करना और लाउड स्पीकर बजाना प्रतिबंधित रहेगा.

कुछ पेपर तिथि भी बदली
उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षाएं पांच मार्च से शुरू होने जा रही हैं. आखिरी समय में हाईस्कूल और इंटर की बोर्ड परीक्षा में आंशिक संशोधन किया गया है. 13 मार्च को होने वाली इंटर की ड्राइंग-पेटिंग की परीक्षा अब 26 मार्च को होगी. विद्यालयी शिक्षा परिषद के सभापति आरके कुंवर ने इसकी पुष्टि की.

उन्होंने कहा कि परीक्षा का संशोधित टाइम टेबल जारी कर दिया गया है.कहा कि परीक्षा के साथ ही मूल्यांकन की तैयारियों को भी करीब-करीब पूरा कर लिया गई हैं, 4500 शिक्षक उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करेंगे. मूल्यांकन स्टेपिंग पैटर्न पर किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि परीक्षाओं को नकलविहीन बनाने के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं. निदेशालय स्तर के अधिकारी भी फ्लाइंग स्कवायड में शामिल रहेंगे. उधर, बोर्ड परीक्षाओं के दौरान अधिकारियों के साथ ही शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे भी सक्रिय रहेंगे. पांडे समय-समय पर नियमानुसार व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहेंगे.