पिछले चार दिनों से नहीं टपकी पानी की बूंद

कोटद्वार के सिताबपुर क्षेत्र के अन्तर्गत कई मोहल्लों में पिछले चार दिनों से पानी की एक बूंद भी नहीं टपकी है. नतीजा, लोगों को पेयजल के लिए यहां-वहां भटकना पड़ रहा है. जबकि जिम्मेदार तंत्र ने वहां सिर्फ एक टैंकर पानी भेजकर अपने फर्ज की इतिश्री कर ली है.

गर्मी की दस्तक देने से पूर्व ही क्षेत्र के नलकूपों ने जवाब देना शुरू कर दिया है. आये दिन फुंक रही नलकूप की मोटरों के कारण लोगों को पानी के लिए जैसे-तैसे व्यवस्था करनी पड़ रही है. सिताबपुर क्षेत्र में नलकूप की मोटर फुंक जाने से नगर क्षेत्र के कई मोहल्लों में पीने के पानी का संकट गहरा गया है. होली में भी लोग बिना पानी के ही रहे.

मजबूरी में लोग टैंकर के पानी से अपनी प्यास बुझा रहे हैं. परेशान लोगों का जल संस्थान के खिलाफ भी रोष पनपने लगा है. विभाग पानी वितरण के लिए वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं कर रहा है. इससे महिलाओं का गुस्सा भी सातवें आसमान पर पहुंच गया है. नलकूप की मोटर फुंकने के कारण करीब दो हजार से अधिक की आबादी के समक्ष पेयजल की समस्या पैदा हो गई है.

स्थानीय निवासी दिनेश नैनवाल, प्रेम बलोधी, अशोक, पवन, रचना, अजय आदि का कहना है कि पेयजल किल्लत के कारण काफी दिक्कतें आ रही हैं. अगर यही हाल रहा तो स्थिति और विकट हो जायेगी. जल संस्थान के अधिशासी अभियंता एलसी रमोला का कहना है कि नलकूप खराब होने के कारण दिक्कतें आ रही हैं. जल्द ही स्थिति सामान्य हो जायेगी.