सुभाष बोस की प्रतिमा पर राजनीति बर्दाश्त नहीं: डीएम

कांग्रेस समर्थित बंगाली समुदाय के लोगों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मूर्ति लगवाने की मांग की तो डीएम डॉ. नीरज खैरवाल ने दो टूक शब्दों में कहा कि वह आपस में तय कर लें. यदि नेता जी की मूर्ति पर राजनीति की जाएगी तो वह बर्दाश्त नहीं करेंगे. डीएम का जवाब सुन कर बौखलाए बंगाली समाज के लोगों ने सुभाष चौक पर धरना शुरू कर दिया.

गौरतलब है कि इंडेन गैस एजेंसी के सामने बने सुभाष चौक पर कांग्रेस समर्थित बंगाली समाज के लोगों ने नेता जी की पुरानी मूर्ति के स्थान पर आदमकद मूर्ति लगाने की पहल की तथा आपसी सहयोग से सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति तैयार कराई. उधरए भाजपा समर्थित बंगाली समाज के लोगों ने भाजपा विधायक राजकुमार ठुकराल से बात करके नेता जी आदमकद मूर्ति तैयार करा ली.

अब दोनों ही पक्ष एक ही स्थान पर अपनी अपनी मूर्ति लगाने की मांग पर अड़े हुए हैं. भाजपा समर्थित लोगों ने तो प्रतिमा के अनावरण का कार्यक्रम तक तय कर दिया है. शुक्रवार को कांग्रेस नेता परिमल राय व विकास मल्लिक के नेतृत्व में बंगाली समाज के लोगों ने डीएम को ज्ञापन सौंपाए जिसमें नेता जी आदमकद मूर्ति लगवाने की मांग की गई थी.

कहा कि यदि उन्हें अनुमति नहीं दी गई तो वह प्रदर्शन व क्रमिक अनशन करने को बाध्य होंगे. डीएम ने कहा कि दोनों पक्ष आपस में बैठ कर मसले को सुलझा लें. यदि नेता जी सुभाष बोस की मूर्ति पर राजनीति नहीं बर्दाश्त नहीं की जाएगी. डीएम का जवाब सुन कर बौखलाए बंगाली समाज के लोगों ने सुभाष चौक पर धरना शुरू कर दिया.

ज्ञापन देने वालों में विमल धरामी, श्यामल मंडल, अजीत साहा, निरोद अधिकारी, शुभम दास, सागर बोस, ब्रजेंद्र मंडल, भूपाल राय, निशिकांत राय, मनोज राय, अमजेंद्र ढाली, काशीनाथ बर्मन, नीरज कुमार, आनंद, जगदीश दास, देवानंद, राजा सरकार, मृणाल स्वर्णकार, विजय मलिक आदि शामिल थे.