फिल्म ‘पद्मावती’ के रिलीज़ होने पर ओवैसी ने दिया ये बयान

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ के स्टार्स और प्रोडूसर को साल के अंत में आखिर  सेंसर बोर्ड ने खुशखबरी दे ही दी .सेंसर बोर्ड ने ‘पद्मावती’ को ‘यूए’ सर्टिफिकेट के साथ रिलीज करने की अनुमति दे दी है.इस पर कुछ लोग बेहद खुश हैं पर कुछ लोग अभी भी इस फिल्म के रिलीज़ कि बात पर नाराज़ दिखाई दे रहे हैं.

उनमे से एक नाम है असदुद्दीन ओवैसी.एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी सेंसर बोर्ड के फैसले पर आपत्ति जताई. ओवैसी ने अपनी बात ट्विटर पर शेयर की.उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा,2 घंटे की एक फिल्म के लिए संगठनों के साथ बातचीत कि जाता है. लेकिन जब मुस्लिम महिला के लिए सशक्तिकरण और न्याय की बात आती है ,तो कोई बातचीत नहीं होती है, बल्कि क्रूर बहुमत से तैयार, दोषपूर्ण और वह बिल जो मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है तैयार कर दिया जाता है.

गौरतलब हे कि,आपको याद दिला दें कि तीन तलाक को खत्म करने वाले बिल ‘मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक, 2017’ के लोकसभा में बिना किसी संशोधन के पास होने पर कई राजनीतिक दल के लोगों ने अपनी राय रखी थी.असदुद्दीन ओवैसी ने भी अपनी प्रतिक्रिया में कहा था, “तीन तलाक बिल से मुस्लिम महिलाओं को न्याय नहीं मिलेगा. हम और न्याय दिलाने के लिए संघर्ष करते रहेंगे.”