सीरिया : जिहादियों एवं विद्रोही लड़ाकों के बीच संघर्ष में 66 लोगों की मौत

सीरिया के पश्चिमोत्तर इदलिब प्रांत में रूस समर्थित सत्तारूढ़ बलों तथा जिहादियों एवं विद्रोही लड़ाकों के बीच संघर्ष में 66 लोग मारे गए हैं.ब्रिटेन स्थित सीरियन आब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि मरने वालों में कम से कम 19 आम नागरिक शामिल हैं जिनकी मौत हवाई हमलों में हुई.

सीरिया के पश्चिमोत्तर प्रांत इदलिब में रूस समर्थित सत्तारूढ़ बलों तथा जिहादियों एवं विद्रोही लड़ाकों के बीच खूनी संघर्ष में अब तक 66 लोगों की मौत हो गई है. ब्रिटेन स्थित सीरियन आब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि मरने वालों में 19 आम नागरिक शामिल हैं जिनकी मौत हवाई हमलों में हुई.

यह आंकड़ा बीते 24 घंटे में इदलिब एवं हामा प्रांतों के बीच संघर्ष में हुए हताहतों का है. इस संस्था के प्रमुख रामी अब्दुल रहमान ने कहा कि मारे गए आम लोगों में सात बच्चे शामिल हैं. उन्होंने कहा कि 27 सैनिक और अर्धसैनिक इकाइयों के सदस्य तथा शासन विरोधी 20 लड़ाके भी मारे गए हैं.

वही दूसरी ओर अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा कि रूस के साथ ‘खराब संबंधों’ के बावजूद वॉशिंगटन को सीरिया सहित कई समान हित वाले क्षेत्रों में रूस के साथ काम करने की जरूरत है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की गुरुवार की रिपोर्ट के अनुसार, टिलरसन ने ‘न्यूयार्क टाइम्स’ में प्रकाशित अपने लेख में कहा कि अमेरिका का वर्तमान में फिर से उभर रहे रूस के साथ खराब संबंध है. रूस और अमेरिका के बीच साल 2016 के राष्ट्रपति चुनावों में कथित रूसी हस्तक्षेप और पूर्वी यूक्रेन मुद्दे को लेकर सार्वजनिक तौर पर टकराव देखे गए थे.

इससे पहले सीरिया के प्रभावशाली कट्टरपंथियों समेत 36 से ज्यादा विद्रोही समूहों ने गृह युद्ध को खत्म करने पर सोचि में रूस के नेतृत्व में होने वाली वार्ता की पहल को खारिज कर दिया. सीरियाई सरकार के अहम सहयोगी रूस और ईरान विपक्षी समर्थक तुर्की के साथ शुक्रवार (23 दिसंबर) को इस बात पर सहमत हुए कि 29 और 30 जनवरी को काला सागर के सोचि रिजॉर्ट में ‘‘कांग्रेस ऑफ नेशनल डायलॉग’ आयोजित किया जाए.