हेलमेट पहनने को लेकर महिला ने किया थाने में हंगामा

शहर में सीपीयू भी है और पुलिस भी, लेकिन कुछ लोगों पर इनका कोई असर नहीं पड़ता. ऐसा ही ताजा मामला आज आवास विकास चौकी में देखने को मिला. जहां बगैर हेलमेट स्कूटी सवार महिला ने अपने बोल बचन से चौकी को सिर पर उठा लिया.

चौकी प्रभारी अपनी चौकी क्षेत्र में वाहन चेकिंग कर रहे थे. जहां हेलमेट न पहनने पर उन्होंने कई लोगों के चालान किए और कुछ वाहनों को सीज भी कर दिया. इसी बीच एक महिला स्कूटी से गुजरी. इस पर पुलिस ने उसे रोक लिया. महिला के पास हेलमेट था, बावजूद इसके उसने हेलमेट नहीं लगाया. महिला के आग्रह पर पुलिस ने उसे दोबारा बगैर हेलमेट न चलने की हिदायद देते हुए छोड़ दिया. हालांकि यहां बात खत्म नहीं हुई.

दरअसल महिला को यह बात अखर गई कि उसे पुलिस ने रोक लिया. गुरु वार सुबह करीब 11 बजे महिला आवास विकास चौकी पहुंची. मजाल तो देखिए कि महिला ने इस बार भी सिर पर हेलमेट नहीं लगाया. जबकि हेलमेट उसकी बगैर नंबर स्कूटी में रखा हुआ था. महिला को बगैर हेलमेट देख चौकी प्रभारी होशियार सिंह का पारा गर्म हो गया और उन्होंने चेतावनी दी कि वह इस हरकत पर महिला की स्कूटी को सीज भी कर सकते है, लेकिन महिला पर चौकी प्रभारी के गुस्से का कोई फर्क नहीं पड़ा. उल्टा वह चौकी इंचार्ज से उलझ गई.

महिला ने कहा कि चाहे स्कूटी सीज कर दो या फिर जेल में डाल दो वह हेलमेट नहीं पहनेगी. इसके अलावा अगर मारपीट की चार हाथ मारने से वह भी पीछे नहीं हटेगी. बात यहीं नहीं थमी, चौकी में मौजूद अन्य लोगों ने जब महिला को समझाने का प्रयास किया तो महिला ने उल्टा ही पुलिस को पुलिस के काम समझाने शुरू कर दिए और कहा कि चालान काटना सीपीयू का काम है, पुलिस का नहीं. हालांकि बाद में जाते वक्त महिला हेलमेट लगाकर ही चौकी से गई, लेकिन हेलमेट की बेल्ट फिर भी नहीं बांधी.