राहुल द्रविड़ ने हार्दिक पांड्या के बारे में दिया ये बयान…

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या ने अपने दमदार प्रदर्शन के बल पर टीम इंडिया में अपनी जगह टॉप खिलाडियों में बना ली है. इतने कम समय में ही पांड्या की तुलना अपने समय के दिग्गज ऑलराउंडर और भारत को पहला विश्व कप दिलाने वाले कपिल देव से होने लगी है.

अब पांड्या के बारे में राहुल द्रविड़ ने एक बयान दिया है. द्रविड़ ने कहा है कि पांड्या में एक एक्स फैक्टर है जो उन्हें बाकी खिलाड़ियों से अलग बनाता है. द्रविड़ का मानना है कि तेज गेंदबाज और ऑलराउंडर के तौर पर सीनियर टीम में जगह बना चुके हार्दिक पांड्या में दुर्लभ गुणों का संगम है.

तेज गेंदबाज ऑलराउंडर देश में पहले से कम रहे हैं और पांड्या ने खुद को मिले मौके को दोनों हाथों से लपका. द्रविड़ ने कहा, ‘हार्दिक टीम में अपनी वजह से आया. उसने प्रदर्शन करके दिखाया और उसके पास एक्स फैक्टर भी है. यह वह फैक्टर है, जो तेज गेंदबाज ऑलराउंडर में होता है. ऐसे खिलाड़ियों को टीम में बने रहने के लिए चुनौतियों का सामना नहीं करना पड़ता.’

राहुल द्रविड़ के टिप्स की बदौलत ही पांड्या अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना जलवा बिखेर रहे हैं. पांड्या खुद भी इस बात को बोल चुके हैं कि ऑस्ट्रेलियाई दौरे के दौरान इंडिया ‘ए’ के कोच राहुल द्रविड़ सर के मार्गदर्शन ने उन्हें ‘मानसिक रूप से मजबूत’ बनाया. पांड्या ने एक बार अपने प्रदर्शन के बारे में बात करते हुए कहा था कि, ‘मेरे लिए, इंडिया ‘ए’ टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया के दौरे के बाद सारी चीजें बदल गयीं. इस दौरे ने बतौर क्रिकेटर मुझे काफी बदल दिया. मैं राहुल द्रविड़ के योगदान के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं.

मैं समझता हूं कि खेल के बारे में मानसिक पहलू हैं जिन पर काम किये जाने की जरूरत है. उन्होंने (द्रविड़) मुझे मानसिक रूप से मजबूत बनाया. मुझे नहीं लगता कि मैंने उन डेढ़ महीनों में राहुल सर की अगुआई में जो कुछ सीखा, उससे कहीं ज्यादा मैंने कहीं और से सीख ली. वह मुझे बताते थे कि मुझे किन चीजों की कोशिश करनी चाहिए. मैं मानसिक रूप से मजबूत था, लेकिन उनसे बात करने के बाद मैं सीख गया कि मैं इससे भी बेहतर हो सकता हूं.’