बेनजीर हत्याकांड: बिलावल ने कहा- मुशर्रफ हैं मेरी मां का हत्यारा

पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ने कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ उनकी मां की हत्या के लिए जिम्मेदार हैं. बेनजीर की दसवीं पुण्यतिथि पर गढ़ी खुदाबख्श में उनके बेटे ने कहा कि ट्रिगर दबाने वाले से ज्यादा दोषी वह व्यक्ति था, जिसमे पूर्व प्रधानमंत्री की सुरक्षा कवर को हटाया.

बेकाबू होती भीड़ के समक्ष बिलावल ने कहा कि मुशर्रफ ने उनकी मां को धमकी दी थी कि वह तभी तक सुरक्षित हैं, जब तक सुरक्षा घेरा उनके चारों तरफ मौजूद है और इसे कम ज्यादा करना उनके हाथ में है. 27 दिसंबर को ही लियाकत बाग के पास दो बार पाकिस्तान की प्रधानमंत्री रहीं बेनजीर भुट्टो की हत्या कर दी गई थी. उस दौरान वह एक चुनावी रैली में थीं.

पाकिस्तान के एबटाबाद में अमेरिकी ऑपरेशन में मारे गए ओसामा बिन लादेन ने पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या करवाई थी. अल कायदा प्रमुख अफगानिस्तान में बैठकर सारे घटनाक्रम पर नजर रख रहा था. पाक खुफिया एजेंसी आइएसआइ को पहले ही साजिश का पता चल गया था. गृह मंत्रालय को आगाह करके कहा गया था कि बेनजीर के साथ तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ व जमीयत उलेमा-ए इस्लाम फजल के प्रमुख फजलुर रहमान उसके निशाने पर हैं.

एक अखबार में छपी खबर के अनुसार खुफिया एजेंसी के हाथ ओसामा के घर से कुछ पत्र लगे थे. 19 दिसंबर 2007 में इनके बारे में सेना व आइएसआइ ने गृह मंत्रालय को आगाह करके कहा था कि तीनों की सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रखी जाए. बेनजीर की हत्या में जिस विस्फोटक का इस्तेमाल हुआ उसे भी ओसामा ने उपलब्ध कराया था.

एजेंसी ने मंत्रालय को यहां तक बताया था कि ओसामा ने अपने कोरियर (व्यक्ति) को पाकिस्तान में भेज दिया है. उसकी पहचान मुलतान निवासी मूसा तारिक के रूप में की गई थी. वजीरस्तान के रास्ते वह पाक में घुसा था. एजेंसी की रिपोर्ट थी कि 22 दिसंबर को यह शख्स डेरा इस्माइल खान में आने वाला था. अखबार ने यह भी लिखा है कि बेनजीर की मौत को दो दिन बाद ओसामा को पत्र भेजा गया था, जिसमें लिखा था कि लाल मस्जिद व जामिया हफ्शा का बदला ले लिया गया है. यह पत्र भी लादेन के घर से मिला था.