हादसे से गुस्साएं लोगों ने बस को किया चकनाचूर

bus accident

सुबह साइकिल से काम पर जा रहे एक श्रमिक को तेज रफ्तार बस ने अपनी चपेट में लिया. जिससे वह बुरी तरह घायल हो गया. हादसे से नाराज लोगों ने मौके से भागने की कोशिश कर रही बस को रोक लिया और पथराव शुरू कर दिया. मौका देख कर चालक मौके से फरार हो गया. गुस्साई भीड़ ने बस को बुरी तरह चकनाचूर कर दिया.

कुछ उग्र युवकों ने बस को आग के हवाले करने की कोशिश की, लेकिन इससे पहले ही पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस को देख उग्र युवक मौके से निकल भागे. पुलिस ने युवक को जिला अस्पताल भेजा और बस को चौकी में खड़ा कर दिया. श्रमिक की हालत नाजुक होने पर उसे हल्द्वानी रेफर कर दिया गया.

मूलरूप से बरेली सेमीखेड़ा ढकिया निवासी धर्मपाल (2०) पुत्र लाखन सिंह सिडकुल के सेक्टर 9 स्थित एलजी बाल किशन प्रा.लि में बतौर श्रमिक काम करता है. धर्मपाल यहां शिव नगर में कमलेश कुमार के मकान में किराए पर रहता है. रोज की तरह गुरुवार को धर्मपाल साइकिल पर सवार हो कर कंपनी के लिए निकला था. बताया जाता है कि धर्मपाल अभी मिंडा मोड़ पर ही पहुंचा था कि तभी पीछे से आई बस संख्या यूए ०4 ई 4827 ने उसे अपनी चपेट में लिया.

टक्कर लगते ही धर्मपाल साइकिल समेत बस के नीचे आ गया. बस का पिछला टायर उसके पैर को कुचलता हुआ निकल गया. युवक की चीख सुनकर आस पास मौजूद लोग दौड़ पड़े. इससे पहले ही चालक बस समेत फरार हो पाता, नाराज भीड़ ने बस को घेर को लिया. खुद को फंसा देख चालक ने बस छोड़ कर भागने में ही गनीमत समझी.

चालक के हाथ से निकलते ही गुस्साई भीड़ का गुस्सा बस पर फूट पड़ा. बेकाबू भीड़ ने बस पर पथराव शुरू कर दिया. जिससे बस पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई. इसी बीच किसी ने हादसे की सूचना पुलिस को दे दी. नाराज भीड़ बस को आग के सुपुर्द करने की फिराक में थी, लेकिन इसी बीच पुलिस मौके पर जा पहुंची. पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद बेकाबू भीड़ को काबू किया और बुरी तरह लहूलुहान धर्मपाल को जिला अस्पताल भेजा. जहां हालत नाजुक होने पर चिकित्सकों ने उसे हल्द्वानी रेफर कर दिया. जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है.