AIMIM नेता ने बीजेपी नेता हेगड़े की जुबान काटने पर रखा 1 करोड़ का ईनाम

पूर्व जिला पंचायत सदस्य ने केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े की जबान काटने पर एक करोड़ का इनाम रखा है. हेगड़े की ‘सेक्युलर लोगों की कोई पहचान नहीं होती’ संबंधी टिप्पणी की प्रतिक्रिया में यह इनाम घोषित किया गया है. पूर्व कलबुर्गी जिला पंचायत सदस्य गुरुशांत पट्टेदार ने कहा कि हेगड़े के बयान से दलितों, मुस्लिमों, पिछड़ी जाति और धर्मनिरपेक्ष लोगों को चोट पहुंची है.

पट्टेदार ने कहा कि हेगड़े की जबान काटकर लाने वाले को मैं एक करोड़ रुपये इनाम दूंगा. पट्टेदार फिलहाल ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलीमीन (AIMIM) से जुड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि यह इनाम मैं निजी तौर पर अपनी इच्छा से रख रहा हूं. उन्होंने इसके लिए एक महीने यानी 26 जनवरी तक की समय सीमा भी तय कर दी. साथ ही उन्होंने हेगड़े पर संविधान की मर्यादा की तौहीन करने का भी आरोप लगाया.

गौरतलब है कि हेगड़े ने सोमवार को यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया था कि हम लोग संविधान बदलने के लिए सत्ता में आए हैं. जो लोग अपनी जड़ों को नहीं जानते और खुद को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं, उनका अपना कोई वजूद नहीं होता. उन्होंने कहा था कि जो अपने खून के बारे में जानता है, मैं उनकी कद्र करता हूं. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा था कि हेगड़े को संविधान या सियासत का ज्ञान नहीं है.

केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े के बयान की प्रतिक्रिया में एक्टर प्रकाशराज ने हेगड़े पर आरोप लगाया कि वह घृणा को बढ़ावा दे रहे हैं और धर्मनिरपेक्षता का आशय विभिन्न धर्मों को सम्मान देने और इस आधार पर धार्मिक विविधता को स्वीकार करने से है. हेगड़े को लिखे खुले पत्र में प्रकाश राज ने कहा कि धर्मनिरपेक्ष होने का ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि आप अपनी धार्मिक पहचान खो देते हैं. उन्होंने हेगड़े के बयान को सस्ती लोकप्रियता पाने का प्रयास भी बताया. उन्होंने कहा कि किसी की जड़ों पर हमला करने के लिए कोई इतना नीचे कैसे गिर सकता है.