राज्यसभा नहीं जा पाएंगे विश्वास, AAP लड़ाना चाहती है अजमेर उपचुनाव

दिल्ली की तीन राज्यसभा सीटों को लेकर आम आदमी पार्टी और कुमार विश्वास के बीच खींचतान बढ़ती जा रही है. विश्वास पहले ही ‘आप’ से खुद को राज्यसभा उम्मीदवार घोषित करने की बात कह चुके हैं लेकिन इसी बीच उन्हें लोकसभा उपचुनाव लड़ाने की मांग उठ गई है. हालांकि इस मांग को राज्यसभा सीट पर कुमार विश्वास की दावेदारी को खत्म करने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है.

केंद्रीय मंत्री सांवर लाल जाट के निधन के बाद अजमेर में उपचुनाव कराना जरूरी हो गया है जिसे लेकर ‘आप’ राजस्‍थान के नेता सुनील अगीवाल ने कुमार विश्‍वास को पार्टी की तरफ से उतारने की मांग की है. उन्‍होंने खुद वर्ष 2014 में भीलवाड़ा से लोकसभा चुनाव लड़ा था लेकिन वह हार गए थे. वह सोमवार को दिल्‍ली पहुंचे जहां उन्होंने कहा कि हमने अजमेर लोकसभा उपचुनाव के लिए कुमार विश्‍वास को उम्‍मीदवार बनाने का प्रस्‍ताव रखा है.

उन्होंने कहा कि विश्‍वास को उम्‍मीदवार बनाने से पार्टी को राजस्‍थान में बहुत मदद मिलेगी. यदि वह जीतते हैं तो वर्ष 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी एक विजेता के तौर पर मैदान में उतरेगी. सुनील ने विश्‍वास से इस बाबत बात करने का भी दावा किया है. हाल ही में कुमार विश्वास ने कहा था कि उनकी पार्टी को उन्हें अपने कोटे से राज्यसभा में भेजना चाहिए.

उनका कहना है कि राज्यसभा संसद का उच्च सदन है और उनमें वह क्षमता है कि वे सदन में देश की जनता की आवाज पुरजोर तरीके से बुलंद कर सकते हैं. विश्‍वास के करीबी एक ‘आप’ नेता ने मौजूदा घटनाक्रम को उनके खिलाफ गड़बड़ी करने का प्रयास करार दिया है.