विवाह असीम स्नेह, प्रेम एवं अटूट विश्वास से युक्त अत्यन्त महत्वपूर्ण संस्कार है : सीएम रावत

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत शनिवार को बाजपुर में आयोजित सर्वधर्म विवाह सम्मेलन में सम्मिलित हुए. उन्होने नवविवाहित पचास दम्पत्तियों को शुभकामनायें दी तथा उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की. इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि विवाह असीम स्नेह, प्रेम एवं अटूट विश्वास से युक्त अत्यन्त महत्वपूर्ण संस्कार है. तथा जीवन का हिस्सा है.

उन्होंने विवाहित दम्पत्तियों से जीवन के हर मोड़ पर एक-दूसरे के प्रति आपसी स्नेह, प्रेम एवं अटूट विश्वास, आत्म समर्पण की भावना के साथ गृहस्थ जीवन व्यतीत करने की अपेक्षा की. उन्होंने इस पुनीत कार्य के आयोजन के लिए हरेन्द्र सिंह ढिल्लन ‘‘लाडी‘‘ परिवार को बधाई दी.मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह ने कहा कि सरकार किसानों के हितों एवं उनके चहुंमुखी विकास के लिए प्रतिबद्ध है तथा निरन्तर किसानों के हितों को ध्यान में रख कर कार्य कर रही है.

उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों का 170 करोड़ रूपये की देनदारी बाकी थी, जिसमें से अब तक 137 करोड़ रूपये की धनराशि का भुगतान किसानों को कर दिया गया है तथा गन्ना किसानों के शेष भुगतान हेतु 33 करोड़ की व्यवस्था कर दी गई है. उन्होंने घोषणा की कि गन्ना किसानों को शीघ्र ही यह धनराशि वितरित कर दी जाएगी. उन्होंने किसानों को आधुनिक तरीके से उन्नत खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया. इस अवसर पर समाज कल्याण मंत्री यशपाल आर्या ने नव विवाहित दम्पत्त्यिों के सफल एवं सुखद जीवन व्यतीत करने व दीर्घायु की मनोकामना करते हुए कहा कि तराई का क्षेत्र एक गुलदस्ते के समान है जिसमें विभिन्न प्रकार के फूलों की तरह सभी धर्मों के लोग एक साथ मिल-जुलकर रहते हैं जिस कारण यह गुलदस्ता भली भाॅति फल-फूल रहा है.

इसी क्रम में ढिल्लन परिवार द्वारा किया जा रहा सर्वधर्म विवाह सम्मेलन एक सराहनीय कार्य है. ज्ञातव्य है कि हरेन्द्र सिंह ‘‘लाडी‘‘ परिवार द्वारा पिछले दस वर्षों से यह सराहनीय कार्य करते हुए अब तक सात सौं से अधिक जोड़ों के विवाह करा दिया गया है जिसके क्रम में आज विभिन्न धर्मों के 50 जोड़ों का विवाह कराया गया है. लाडी ने कहा कि ईश्वर की अनुकम्पा से आगे भी इस सामाजिक कार्य के साथी ही शिक्षा सहित अन्य सामाजिक क्षेत्रों में भी निःशुल्क कार्य करते रहेंगे.मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने स्व. इन्द्रमणी बड़ोनी की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने स्व बड़ोनी का भावपूर्ण स्मरण करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन में उनकी अग्रणी भूमिका रही है.

उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन को निर्णायक स्थिति तक पहुंचाने में स्व. बड़ोनी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है. उत्तराखण्ड के गांधी के नाम से विख्यात स्व. बड़ोनी ने उत्तराखण्ड की स्थानीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुये अलग राज्य निर्माण का बीड़ा उठाया था. उन्होने कहा कि स्व. बड़ोनी के सपनों के अनुरूप राज्य का चहुमुखी विकास तथा राज्य आन्दोलन में सक्रिय भागीदारी निभाने वालों का सम्मान हमारी जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के बेरोजगारों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने और प्रदेश का समग्र विकास ही स्व. बडोनी के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी.