इस दिन रिलीज हो सकती है फिल्म पद्मावती

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ‘पद्मावती’ देखने के लिए इतिहासकारों की समिति गठित कर सकता है. निर्माताओं के यह कहने के बाद कि यह फिल्म आंशिक रूप से ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है, बोर्ड इस दिशा में कदम बढ़ने पर विचार कर रहा है.

गुजरात चुनाव के बाद ‘पद्मावती’ टीम को सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने की उम्मीद थी. लेकिन यह खबर उसकी उम्मीदों पर पानी फेरने वाली है. लेकिन हाल ही में मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि इस फिल्म के लिए फैंस को अप्रैल तक का इंतजार करना होगा. प्रमाणन के लिए सौंपे गए आवेदन में दावा किया कि यह ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है. अब प्रामाणिकता के लिए इसकी जांच की जाएगी.

इससे पहले फिल्म को निर्माताओं के पास भेजा गया था. पाया गया था कि यह फिक्शन पर या ऐतिहासिक तथ्य पर आधारित है का कालम खाली रखा गया था. इसके बाद ही फिल्म को वापस भेजा गया था. कुछ हिंदूवादी संगठन फिल्म के विरोध में उतर गए.

संगठनों का दावा था कि यह फिल्म राजपूत स्वाभिमान का अपमान करती है. कुछ राजनेता भी विरोध में कूद पड़े और कहा कि वे राजस्थान में इसे रिलीज होने की अनुमति नहीं देंगे.