राष्ट्रपति कोविंद की बच्चों को सीख- ‘कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं’

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद -फाइल फोटो

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को कहा कि कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है और उन्होंने बच्चों से जीवन में अपने लक्ष्यों को हासिल करने के वास्ते परिश्रम करने के लिए कहा.

राष्ट्रपति ने राजभवन परिसर में एक सरकारी स्कूल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चों को अपने लिए लक्ष्य तय करने चाहिए और उन्हें हासिल करने के लिए मेहनत करनी चाहिए.

एक अधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार कोविंद ने कहा, ‘कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है और केवल कठिन परिश्रम से ही जीवन में आगे बढ़ा जा सकता है. बच्चों को अपने लिए लक्ष्य तय करने चाहिए और उन्हें हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए.’

कोविंद ने बच्चों को हिंदी सीखने की सलाह दी और कहा कि वह कई ऐसे नेताओं को जानते हैं कि जिन्हें हिंदी भाषा का ज्ञान न होने के कारण अन्य राज्य के लोगों से बातचीत करने में मुश्किल होती है. कोविंद ने बाद में हैदराबाद स्थित भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. इसके बाद वह शहर की अपनी दो दिवसीय यात्रा संपन्न कर नई दिल्ली रवाना हो गए.

कोविंद ने हैदराबाद में हुसैन सागर झील के मध्य स्थित भगवान बुद्ध की प्रतिमा के दर्शन किए और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. राष्ट्रपति की यात्रा में तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन और उपमुख्यमंत्री मोहम्मद अली उनके साथ थे.

कोविन्द की यात्रा को देखते हुए स्थल पर व्यापक सुरक्षा इंतजाम किए गए थे. तेलंगाना के पर्यटन विभाग ने राष्ट्रपति और अन्य गणमान्य व्यक्तियों को प्रतिमा तक ले जाने के लिए विशेष नौका का प्रबंध किया था.

राष्ट्रपति ने मंगलवार को विश्व तेलुगू सम्मेलन 2017 के समापन समारोह में हिस्सा लिया था. बाद में राष्ट्रपति एक विशेष विमान में राष्ट्रीय राजधानी के लिए रवाना हो गए.