दोस्तों ने मारी पूर्व बीजेपी विधायक के बेटे को गोली, बताई जा रही ये वजह

उत्तर प्रदेश की राजधानीलखनऊ में शनिवार रात बीजेपी के पूर्व विधायक प्रेम प्रकाश तिवारी उर्फ जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. वैभव को गोली मारने वालों की पहचान कर ली गई है. आरोप है कि वैभव के दोस्तों ने ही उनकी हत्या कराई है.

दोस्तों ने ही फोन करके घर के बाहर बुलाया था. जिसके बाद उन्हें गोली मार दी गई. पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है.प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी डुमरियागंज से बीजेपी के पूर्व विधायक रहे हैं. जिप्पी तिवारी अपनी पत्नी, बेटे, बहू और 3 साल की पोती के साथ लखनऊ के हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस  में रहते हैं.

शनिवार रात उनके 32 वर्षीय एकलौते बेटे वैभव की हत्या कर दी गई. हत्या का आरोप वैभव के दोस्त सूरज शुक्ला और विक्रम सिंह पर है. आरोप है कि शनिवार की रात दोनों ने वैभव को फोन करके घर के बाहर बुलाया था. वैभव कसमंडा हाउस के बाहर निकला और मेन गेट के बाहर खड़ी कार के पास पहुंचा. सूरज और विक्रम कार में ही बैठे थे.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि कार का शीशा खुला था और वैभव बाहर खड़ा होकर बात कर रहा था. अचानक गोलियों की तेज आवाज से हड़कंप मच गया. पुलिस आपसी लेनदेन और रंजिश को हत्या का कारण मान रही है. आरोपी विक्रम सिंह हिस्ट्रीशीटर है. उसकी मां सीबीसीआईडी में दारोगा हैं.

वैभव ने आईआईएम अहमदाबाद  से एमबीए किया था. वैभव सिद्धार्थनगर के जगतपुर गांव से प्रधान भी थे. वह लखनऊ में रहकर प्रॉपर्टी का काम कर रहे थे. आरोपी सूरज भी वैभव का पुराना दोस्त है और प्रॉपर्टी डीलर के काम में भागीदार था. हालांकि तीन साल पहले दोनों ने अपना बिजनस अलग कर लिया था.