संसद के शीतकालीन सत्र में मोदी की टिप्पणी पर विपक्ष ने किया हंगामा

संसद का शीतकालीन सत्र जोरदार हंगामे के साथ शुरू हुआ. विपक्ष ने शुक्रवार को राज्य सभा की कार्यवाही शुरू होते ही पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर पीएम नरेंद्र मोदी की टिप्पणी और शरद यादव की सदस्यता खत्म करने के मुद्दे पर हंगामा किया.

कांग्रेस और विपक्षी सदस्य पीएम नरेंद्र मोदी से माफी की मांग कर रहे थे. हंगामे के चलते राज्य सभा की कार्यवाही को पहले 12 बजे तक और फिर दोपहर 2.30 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने संसद परिसर में मीडिया से मुखातिब होकर उम्मीद जताई है कि संसद में सकरात्मक बहस होगी जिससे देश को लाभ होगा. दूसरी तरफ विपक्ष ने भी अपने तेवर साफ कर दिए हैं. कांग्रेस ने कहा है कि पीएम मोदी को गुजरात चुनाव में ‘पाकिस्तान’ का इस्तेमाल करने के मुद्दे पर संसद में सफाई देनी होगी.

इस बीच शुक्रवार को मोदी कैबिनेट की बैठक भी होनी है, जिसमें तीन तलाक पर बिल को मंजूरी दी जाएगी. 5 जनवरी तक चलने वाले शीतकालीन सत्र में गुजरात और हिमाचल के चुनावी नतीजे सरकार और विपक्ष के तेवरों पर खासा असर डालेंगे.

इस सत्र में कुल 14 कार्यदिवस होंगे. पहले दिन लोकसभा में दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही स्थगित कर दी गई. गुजरात में अगर परिणाम बीजेपी के विरोध में आया तो पहले से ही हमलावर विपक्ष और आक्रामक हो सकता है, लेकिन अगर यह बीजेपी के पक्ष आया में तो सरकार विपक्ष द्वारा उठाए गए सवालों की अनदेखी कर सकती है.