हिमाचल में बनी 6 दवाइयों के सैंपल फेल

हिमाचल प्रदेश में दिल की बीमारी, एंटी बायोटिक, कब्ज, हड्डियों व गैस्टिक की बनी दवाइयों के 6 सैंपल फेल हो गए हैं. इससे राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश की छवि एक बार फिर धूमिल हुई है. इन सभी दवाइयों का उत्पादन प्रदेश के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र बी.बी.एन. में ही हुआ है.

केंद्रीय दवा मानकनियंत्रण संगठन (सी.डी.एस. सी.ओ.) ने देशभर में इस माह ड्रग अलर्ट जारी किया है. देशभर में 37 दवाइयों के सैंपल फेल हुए हैं. इनमें से 6 दवाइयां हिमाचल में बनी हैं. सी.डी.एस.सी.ओ. ने इन दवाइयों की गुणवत्ता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है. इन कंपनियों को अब इन दवाइयों के बैच देशभर के बाजारों से वापस मंगवाने होंगे. प्रदेश में जिन दवाइयों के सैंपल फेल हुए है, उनमें से अधिकांश दवाइयां दिल की बीमारी, एंटी बायोटिक, कब्ज, हड्डियों व गैस्टिक इत्यादि की हैं. आम आदमी इन दवाइयों को अक्सर इस्तेमाल करता है.

सी.डी.एस.सी.ओ. द्वारा देश में हर महीने ड्रग अलर्ट जारी किया जाता है. सी.डी.एस.सी.ओ. द्वारा पिछले 8 महीने में जारी किए ड्रग अलर्ट के अनुसार देशभर में करीब 251 दवाइयों के सैंपल फेल हुए. इनमें से 80 दवाइयों का उत्पादन हिमाचल में हुआ है या यूं कहें कि देश में जिन दवाइयों के सैंपल फेल हो रहे हैं, उनमें हर तीसरी दवा हिमाचल की है. सी.डी.एस.सी.ओ. द्वारा देश में हर महीने ड्रग अलर्ट जारी किया जाता है. पिछले 8 महीने से हर माह औसतन 7 दवाइयों के सैंपल फेल हो रहे हैं.

जानकारी के अनुसार मैसर्ज आईओन हैल्थ केयर बद्दी की डूलैक्श का बैच नम्बर टी. 7060302, मैसर्ज हनूकैम मानपुरा बद्दी की अजीथ्रोमयसिन ओरल सस्पैंशन का बैच नम्बर एल. 1624702, मैसर्ज अलाइंस बायोटैक काठा बद्दी की पैंटोप्रेजोल का बैच नम्बर ए.डी.जी. 135, मैसर्ज ओ.ए.सिस. फार्मा लोदीमाजरा नालागढ़ की कैलसिट्स का बैच नम्बर आई.ओ.एल. 161004, मैसर्ज अल्ट्राटैक फार्मास्यूटिकल टिपरा बरोटीवाला की डोटोव 80 का बैच नम्बर यू.एल.टी. 10271 व यूनिसन फार्मास्यूटिकल झाड़माजरी बद्दी की मैटोप्रोलोल के बैच नम्बर यू.एम.एक्स.टी.-09 के सैंपल फेल हो गए हैं.