जम्मू-कश्मीर : बर्फीले तूफान में लापता हुए पांच जवानों का अब तक नहीं चला कोई पता नहीं

जम्मू-कश्मीर के गुरेज़ और नौगाम सेक्टर में भारी बर्फबारी की वजह से लापता हुए पांच जवानों का 24 घंटे के बाद भी कुछ पता नहीं चल पाया है. इन दोनों जगहों पर सैनिक गश्त के दौरान ढलान से नीचे गिर गए. सैनिकों के लिए बचाव अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन खराब मौसम की वजह से राहत अभियान में परेशानी आ रही हैं. सेना के मुताबिक रविवार को करीब साढ़े आठ बजे गुरेज सेक्टर में दस जवान लाइन ऑफ कंट्रोल के पास गश्त लगा रहे थे, उसी दौरान मौसम खराब हो गया और तीन जवान फिसलकर नाले में गिर पड़े.

सेना ने तुरंत इन जवानों को बचाने की कारवाई शुरू की, लेकिन मौसम की मार की वजह से अब तक जवानों तक सेना के जवान पहुंच नहीं पाए हैं. यह इलाका एलओसी से करीब 5-6 किलो मीटर पहले हैं. वहीं कुपवाड़ा के नौगाम सेक्टर में रविवार शाम पांच बजे सेना के एक अफसर सहित दस जवान पेट्रोल पर थे तभी दो जवान पोस्ट के पास ढलान से गिर पड़े.

यहां भी सेना की ओर से बचाव अभियान चलाया गया है लेकिन अब तक कोई सफलता नही मिली हैं. खबर है कि इलाक़े में कई फुट बर्फ पर चुकी है और रुक-रुक कर भारी बारिश भी हो रही हैं जिस वजह से सेना का बचाव कार्य ढंग से नहीं हो पा रहा है. वैसे संभावना है कि सोमवार से लापता जवानों के तलाशी अभियान के लिए HAWS यानी कि हाई एल्टीट्यूड वारफेयर स्कूल, सोनमर्ग की टीम लगाई जाएगी जो ऊंची बर्फीली पहाड़ियों पर खराब हालत से निपटने के लिए प्रशीक्षित होते हैं.

इसी साल भी गुरेज़ सेक्टर में बर्फीली तूफान की वजह से सेना के दस जवान और चार अन्य आम आदमियों की मौत हो गई थी. सेना का कहना है कि मौसम खराब होने के बावजूद अपनी पोस्ट नहीं छोड़ सकते, क्योंकि सीमा पार से आतंकी घुसपैठ कर इसका फायदा उठा सकते हैं.