एनएच-74 घोटाला : निलंबित पीसीएस अफसरों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस सुस्त

रुद्रपुर, एनएच 74 में हुए मुआवजे के खेल में शासन ने छह पीसीएस अफसरों को निलंबित किया था तथा एक अन्य रिटायर्ड पीसीएस अधिकारी पर कार्रवाई की थी, लेकिन एनएच घोटाले की जांच कर रही एसआईटी ने अभी दो ही पीसीएस अफसरों को गिरफ्तार किया है. एक अन्य पीसीएस अधिकारी की तलाश तो की गई, मगर उनकी गिरफ्तारी की प्रक्रिया सुस्त पड़ी है. हालांकि आयुक्त की जांच में अन्य एक पीसीएस अफसर पर भी कार्रवाई की सिफारिश की गई थी, जिन पर कार्रवाई नहीं हुई.

एसआईटी ने अभी तक दो निलंबित पीसीएस अफसर डीपी सिंह व भगत सिंह फोनिया को ही गिरफ्तार किया है जबकि आठ अन्य आरोपी गिरफ्तार हुए हैं. शासन ने छह पीसीएस अफसरों को निलंबित किया था तो उसका कुछ न कुछ आधार जरूर रहा होगा, लेकिन अभी तक अन्य अफसरों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है. हालांकि फोनिया के साथ ही एक अन्य पीसीएस अफसर की तलाश में देहरादून में छापेमारी जरूर की गई थी, मगर उनकी गिरफ्तारी की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी.

एसआईटी ने पहले चरण में जसपुर व काशीपुर की जांच की और वर्तमान में बाजपुर व रुद्रपुर की जांच की जा रही है, जबकि गदरपुर, सितारगंज और किच्छा की जांच होनी बाकी है. एसआईटी ने एनएचएआई के अधिकारियों को पूछताछ के लिए तलब किया था, लेकिन एनएचएआई के अफसर एसआईटी के सामने उपस्थित नहीं हुए.

एसआईटी की जांच में घोटाले की परतें खुलती जा रही हैं और यह साफ होता जा रहा है कि किस तरह करोड़ों का खेल खेला गया. माना जा रहा है कि पूरे घोटाले की जांच के दौरान अन्य अफसरों पर भी गिरफ्तारी की तलवार लटकी रहेगी. एसआईटी कभी भी निलंबित पीसीएस अफसरों की गिरफ्तारी कर सकती है.