अमेरिका ने भी अपने नागरिकों को पाकिस्तान की सभी गेर-जरूरी यात्रा के खिलाफ चेताया

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने सात महीने बाद यात्रा को लेकर जारी की गई  चेतावनी में सभी अमेरिकी नागरिकों को दक्षिण एशियाई देशों की सभी गेर-जरूरी यात्रा के खिलाफ चेताया है. इससे पहले 22 मई को चेतावनी जारी की गई थी.चेतावनी में कहा गया है कि पाकिस्तान में लगातार कट्टरपंथियी हमले सहित आतंकी हमले हो रहे हैं. सरकारी अधिकारियों, मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले, NGO कर्मचारियों, आदिवासियों पर हमले होना बेहद आम हो गया है.

शनिवार को अमेरिका ने अपने सभी नागरिकों के लिए अडवाइजरी जारी कर उनसे पाकिस्तान की गैर-जरूरी यात्रा टालने की अपील की है. ऐसा विदेशी और पाकिस्तानी आतंकी समूहों द्वारा संभावित आतंकी हमलों के मद्देनजर किया गया है. यह चेतावनी पाकिस्तान में लगातार बढ़ रहे आतंकी हमलों, हिंसा को देखते हुए जारी की गई है. आतंकी अमेरिकी राजदूतों को पहले भी निशाना बना चुके हैं और सबूतों से यह साफ है कि वे आगे भी ऐसा कर सकते है. आतंकवादी और आपराधिक समूह फिरौती की रकम के लिए अपहरण का सहारा ले रहे हैं.

विदेश मंत्रालय के मुताबिक, कट्टरपंथी हिंसा पूरे पाकिस्तान में गंभार खतरा बनी हुई है और पाकिस्तानी सरकार लगातार ईशनिंदा के कानून लागू कर रही है. धार्मिक अल्पसंख्यकों की हत्या हो रही है और उन्हें ईशनिंदा का आरोपी बनाया जा रहा है। विदेश मंत्रालय के अनुसार, आतंकी समूहों ने कई आत्मघाती हमलों को अंजाम दिया, ग्रेनेड अटैक किए और पाकिस्तानी सुरक्षाबलों के साथ ही आम नागरिकों को भी घात लगाकर मौत के घाट उतारा है. हाल ही में क्वेटा में सीनियर पुलिस अफसरों को निशाना बनाकर एक आत्मघाती हमला किया गया जिसमें 14 लोग मारे गए थे औ 30 घायल हुए थे.

अडवाइजरी में कहा गया है कि आतंकी संगठनों ने अब सरकारी अधिकारियों और आम नागरिकों में कोई फर्क नहीं रखा है। मई 2017 से कई बड़े हमले हुए हैं। पेराचिनार में IED धमाके से 67 नागरिकों की मौत हुई और 75 घायल हुए, जमरूद में शांति समिति कार्यकर्ताओं को निशाना बनाकर किए गए हमले में 5 नागरिक मारे गए थे. पेशावर अस्पताल पर IED अटैक में पांच लोग घायल हुए थे. पेशावर में एक ‘टॉय बम’ के फटने से एक बच्चे की मौत हो गई थी और अन्य 6 लोग घायल हो गए थे.

इससे पहले शुक्रवार को पाकिस्तान का सहयोगी देश चीन भी अपने नागरिकों के लिए ऐसी ही अडवाइजरी जारी कर चुका है. चीन ने पाकिस्तान में रह रहे अपने नागरिकों और निवेशकों को आतंकतियों से सावधान रहने को कहा है. चीन ने पाकिस्तान में रह रहे अपने नागरिकों और निवेशकों को आतंकी हमलों से अलर्ट किया है. पाकिस्तान के इस्लामाबाद स्थित चीनी दूतावास ने अपनी वेबसाइट के जरिए अपने नागरिकों को अलर्ट करते हुए कहा है कि चीनी नागरिकों और चीनी संगठनों पर आतंकी हमले हो सकते हैं.

चीनी दूतावास ने चीनी नागरिकों को पाकिस्तान पुलिस और सेना के साथ सहयोग करने को कहा है, ताकि किसी भी आपात स्थिति से निपटा जा सके. वहीं चीन के इस अलर्ट पर पाकिस्तान की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है. ये अलर्ट अपने आप में चौंकाने वाला है, क्योंकि चीन पाकिस्तान में बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट में निवेश कर रहा है. ऐसे में अपने नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंतित होना हैरान करने वाला है.