#Happy Birthday : 82 साल के हुए धर्मेन्द्र, ऐसे शुरू हुआ फिल्मी सफर

मशहूर अभिनेता धर्मेन्द्र आज 82 साल के हो गए है. उनका जन्म 1935 में पंजाब के फगवाड़ा में एक सिख जाट परिवार में हुआ था. सन 1958 में धर्मेंद्र पहली बार मुंबई आए थे.उनका पूरा नाम धरम सिंह देओल (Dharam Singh Deol) है. उनकी पहली शादी तब हो गई थी, जब वो केवल 19 साल के थे. फिल्मों में काम करने से पहले धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क थे और उन्हें सवा सौ रुपए सैलरी मिलती थी.

फिल्मफेयर का टैलेंट अवॉर्ड जीतकर धर्मेंद्र मुंबई आ गए और फिल्मों में स्ट्रगल करने लगे. विवाहित होने की वजह से उन्हें फिल्में मिलने में काफ़ी दिक़्कते आईं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. धर्मेन्द्र की पहली फिल्म थी दिल भी तेरा हम भी तेरे, आपको जानकर आश्चर्य होगा कि फिल्म के प्रीमियर पर धर्मेन्द्र को किसी ने नहीं पहचाना और ग़ुस्से में वो ट्रेन से घर चले गए थे.

फिल्म अनपढ़ और बंदिनी से उन्हें पहचान मिली. फिल्मों में शुरुआत में उनकी छवि एक रोमांटिक हीरो की थी, लेकिन फूल और पत्थर, धरम वीर, चरस, आज़ाद और शोले ने उन्हें एक्शन हीरो बना दिया. आज भी धरम पाजी का अंदाज़ उनके फैन्स पसंद करते हैं. फिल्मों में उनकी दूसरी पारी को भी पसंद किया गया.

धर्मेन्द्र और हेमा की जोड़ी फिल्मी पर्दे पर जितनी हिट थी उतनी ही इनकी लव स्टोरी भी चर्चित रही. स्टारडम की दौड़ में बने रहने की चुनौतियों के बीच धर्मेन्द्र के करियर को मिला ड्रीमगर्ल का सहारा.70 के दशक की वो हीरोइन, जिनके नाम राजकपूर और देवानंद जैसे हीरोज के ढलते करियर को सपनों का सौदागर और जॉनी मेरा नाम जैसी सुपरहिट फिल्मों से संवारने का क्रेडिट था.

धर्मेन्द्र के साथ जब डाइरेक्टर आसित सेन ने हेमा मालिनी को फिल्म शराफत में साइन किया, तब उन्हें भी ऐसे ही करिश्मे की दरकार थी. फिल्म हालांकि उम्मीदों के मुताबिक नहीं चली, लेकिन धर्मेन्द्र के दिल में हेमा के लिए मुहब्बत का सिलसिला शुरु हो गया.धर्मेन्द्र और हेमा की पहली मुलाकात 1969 में एक फिल्म के प्रीमियर पर हुई थी. तब हेमा की खूबसूरती के चर्चे पूरी इंडस्ट्री में जोरों पर थे.

धर्मेन्द्र भी ये मानते हैं कि इसी मुलाकात में वो 21 साल की हेमा मालिनी पर फिदा हो चुके थे.  इसी साल हेमा मालिनी ने धर्मेन्द्र के साथ 4 फिल्में साइन की. 1971 में नया जमाना और राजा रानी के बाद 1972 में आई सीता और गीता के साथ धर्मेन्द्र और हेमा की जोड़ी सुपरहिट साबित हुई.

शोले की शूटिंग के दौरान धर्मेन्द्र और हेमा की मुहब्बत की चर्चा बंगलोर से लेकर बंबई तक फैली लेकिन धर्मेन्द्र तो अब तक हेमा को प्रपोज भी नहीं कर पाए थे. शादी शुदा होने की वजह से धर्मेन्द्र के लिए ये आसान भी नहीं था. फिर एक दिन शोले की शूटिंग के दौरान धर्मेन्द्र ने हेमा से अपने दिल की बात कह ही डाली.

और इसके बाद शुरू हुआ उनकी मुहब्बत का इम्तिहान, हेमा मालिनी के माता-पिता धर्मेन्द्र से शादी को तैयार नहीं थे, क्योंकि धर्मेन्द्र शादी शुदा थे और चार बच्चों का पिता भी.  धर्मेन्द्र और हेमा इस कदर मोहब्बत में थे कि इन्होंने शादी कर ही ली. 2 मई 1980  की उस रात हेमा के जुहू बंगले पर  कुछ गिने चुने दोस्तों और करीबी रिश्तेदारों के बीच धर्मेन्द्र हेमा के साथ शादी के बंधन में बंध गए और तबसे अब तक दोनों एक दूजे का साथ निभाते आ रहे हैं.