इच्छामृत्यु की मांग कर रही पीडिता ने राष्ट्रपति को पत्र लिख किया दर्द बयान

हरियाणा, उकलाना मंडी के गांव भेरी अकबरपुर की एचआईवी संक्रमित महिला ने उकलाना के नायब तहसीलदार से मुलाकात कर ख़्वाहिश मृत्यु की मांग करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम पर एक लेटर सौंपा.वजह जान आपको भी होगा ताज्जुब.तहसीलदार को दी गई शिकायत में, पीड़ित ने बताया कि वह 29 नवंबर को उकलाना के सरकारी अस्पताल में जांच के लिए गई थी.

वहां मौजूद स्टाफ नर्स ने बताया कि वह कुछ ही घंटों के बाद एक बच्चे को जन्म देने वाली हें पर सरकारी अस्पताल में सुविधाएं नहीं हे,इसलिए वह एक निजी अस्पताल में प्रसूति करवा देगी और सिर्फ तीन से चार हजार खर्च होंगे.
वह नर्स उसे शहर के एक निजी अस्पताल में ले गई जहां उसकी डिलीवरी हो गई. मौजूद महिला डॉक्टर ने उससे 17 हजार रुपये कि मांग कि, इतने पैसे उसके परिवार के पास नहीं थे.

इस बारे में उसके परिजनों ने पूछताछ की तो डॉक्टर और अन्य स्टाफ के लोगों ने उनके साथ धक्कामुक्की की तथा उसे बंधक बनाए रखा,इसके अलावा सरकारी नर्सों, डॉक्टरों और व्यक्तिगत अस्पतालों में लोगों ने यह भी बता दिया कि वह एचआईवी से संक्रमित है. यह बात महिला के गांव और आसपास के गांवों में भी फैल गई, जिसकी वजह से सभी लोग उन्हें अपमान जनक और घृणा भरी नजरो से देखने लगे.

महिला ने उकलाना के सरकारी अस्पताल पर सामान्य डिलीवरी के 15,000 रुपए वसूल करने, बंधक बनाने और उनके एचआईवी संक्रमित होने की बात सार्वजनिक करने पर एक नर्स, चिकित्सक और एक निजी अस्पताल के चिकित्सक पर गंभीर आरोप लगाए हैं.महिला ने उकलाना पुलिस पर भी धमकी के आरोप लगाए हें. शिकायत पत्र में, पीड़ित ने आरोपी, के खिलाफ कानूनी कार्रवाई न होने पर आत्मदाह करने की धमकी दी है.

नायब तहसीलदार अनिल परुथी ने पीड़िता को आश्वासन दिया कि उनकी शिकायत सरकार को तुरंत भेजी जा रही है. स्थानीय सरकारी अस्पताल के प्रभारी डॉक्टर राजेश ने कहा कि इस मामले की जांच हो रही है. दोनों पक्षों को बुलाया गया है.