टीम इंडिया के लिए लकी रहा हैं ये ग्राउंड, 30 वर्षों से हैं अपराजित

शनिवार को भारत और श्रीलंका के बीच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर टेस्ट सीरीज का अन्तिम और निर्णाक मुकाबला खेला जाएगा. इस मैदान पर भारत का रिकॉर्ड अच्छा रहा है. विश्व की नंबर एक टेस्ट टीम भारत इस मैदान में पिछले 30 वर्षों के अपने अपराजेय रिकॉर्ड को बरकरार रखते हुए अंतिम टेस्ट में भी जीत हासिल कर सीरीज कब्जाने के इरादे से उतरेगी.

भारत ने पिछले 30 वर्षों में इस मैदान में 11 टेस्टों में 10 जीते हैं और एक ड्रॉ खेला है. इस आंकड़े से साबित हो जाता है कि कोटला मैदान पर भारतीय टीम का सिक्का किस कदर चलता है. कोटला मैदान पर पहला टेस्ट 10 नवम्बर 1948 को खेला गया था जो ड्रॉ रहा था.आजादी के एक साल बाद कोटला मैदान पर खेले गए इस मैच से अब तक इस मैदान पर भारत ने 33 टेस्ट टेस्ट खेले हैं जिसमें से उसने 13 जीते है और छह हारे हैं.

इन 13 जीत में से 10 जीत तो भारत को पिछले 30 वर्षों में मिली हैं.श्रीलंकाई टीम ने कोटला मैदान पर 2005 में एकमात्र बार टेस्ट मैच खेला है जिसमें उसे 188 रन से करारी पराजय का सामना करना पड़ा था. भारत कोटला में आखिरी बार नवम्बर 1987 में वेस्ट इंडीज से पांच विकेट से हारा था लेकिन उसके बाद से इस मैदान पर सात टीमों ने टेस्ट खेले हैं पर कोई भी टीम भारत को हारने में सफल नहीं हो पाई है.

भारत ने वेस्ट इंडीज से 1987 में हारने के बाद से जिम्बाब्वे को 1993 में पारी और 13 रन से, 1996 में ऑस्ट्रेलिया को सात विकेट से, 1999 में पाकिस्तान को 212 रन से, 2000 में जिम्बाब्वे को सात विकेट से, 2002 में जिम्बाब्वे को चार विकेट से, 2005 में श्रीलंका को 188 रन से, 2007 में पकिस्तान को छह विकेट से, 2011 में वेस्ट इंडीज को पांच विकेट से, 2013 में ऑस्ट्रेलिया को छह विकेट से और 2015 में दक्षिण अफ्रीका को 337 रन से हराया था.

मौजूदा भारतीय खिलाडिय़ों में कोटला मैदान पर अजिक्या रहाणे ने 235 रन, चेतेश्वर पुजारा ने 176 और विराट कोहली ने 174 रन बनाए हैं। रहाणे कोटला में शतक बना चुके हैं जबकि विराट का सर्वाधिक स्कोर नाबाद 88 और पुजारा का नाबाद 82 रन है. कोटला पर सर्वाधिक विकेट के मामले में अश्विन तीन मैचों में 23 विकेट के साथ तीसरे नंबर पर हैं.
एक पारी में इसी मैदान पर परफेक्ट 10 का रिकॉर्ड बना चुके लेग स्पिनर अनिल कुंबले के सात टेस्टों में 58 विकेट लेकर सबसे आगे हैं जबकि कपिल देव नौ टेस्टों में 32 विकेट के साथ दूसरे स्थान पर हैं.