बीसीसीआई ने सचिन की ’10 नंबर’ की जर्सी को लेकर लिया ये बड़ा फैसला

क्रिकेट के भगवान के नाम से मशहूर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की जर्सी नंबर-10 को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने अनऑफिशियल तौर पर बुधवार को रिटायर घोषित कर दिया. तेंदुलकर को आपने ज्यादातर मैदान पर 10 नंबर की जर्सी पहनकर खेलते हुए देखा. क्रिकेट इतिहास में ’10’ को एक प्रतिष्ठित नंबर माना जाता है क्योंकि सचिन ने इस नंबर की जर्सी पहने कितने ही रेकॉर्ड बनाए. साल 2013 में सचिन ने इस खेल को अलविदा कह दिया. सचिन 10 के अलावा 33 और 99 नंबर की जर्सी में भी मैदान पर नजर आ चुके हैं.

सचिन तेंदुलकर ने इस जर्सी नंबर के साथ मार्च 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ अपना आखिरी वनडे मैच खेला था. उसके बाद से करीब पांच साल तक इस जर्सी नंबर को भारत की ओर से इंटरनेशनल क्रिकेट में किसी ने इस्तेमाल नहीं किया माना जा रहा है कि बीसीसीआई ने अब इस नंबर की जर्सी को अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए रिटायर करने का फैसला किया है. इस फैसले के मुताबिक अब टीम के किसी दूसरे खिलाड़ी को इस नंबर की जर्सी नहीं दी जाएगी. 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले सचिन ने आखिरी बार मार्च 2012 में यह जर्सी पहनी थी.

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने उनसे अपील की थी कि आप दोबारा इस नंबर की जर्सी पहनकर मैदान पर खेलने ना आना. तब से सचिन की 10 नंबर की जर्सी पहनकर शार्दुल के अलावा कोई भी भारतीय खिलाड़ी मैदान पर नहीं गया. इस तरह की किसी भी तरह के मामले से बचने के लिए बीसीसीआई ने फैसला किया है कि 10 नंबर की जर्सी को रिटायर कर दिया जाए

कुछ महीने पहले मुंबई के पेसर शार्दुल ठाकुर ने भारत-श्री लंका वनडे सीरीज में इस नंबर की जर्सी को पहनकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया. शार्दुल ठाकुर ने 10 नंबर की जर्सी पहनकर श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में एक मैच खेला जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी और बीसीसीआई को कड़ी आलोचना भी झेलनी पड़ी थी

आईसीसी के दिशा-निर्देशों के मुताबिक, किसी एक नंबर को रिटायर करने की अनुमति नहीं है और क्रिकेट की वैश्विक संस्था से ऐसा करने को लेकर अनुमति लेने का भी कोई प्रावधान नहीं है. इसके चलते बीसीसीआई गैर-आधिकारिक तौर पर इस नंबर की जर्सी को रिटायर करेगा

बीसीसीआई से जुड़े सूत्रों ने TOI स्पोर्ट्स को बताया, ‘नियमों के मुताबिक, बीसीसीआई को किसी जर्सी को रिटायर करने के लिए आईसीसी के पास जाना होगा. ऐसे में टीम सदस्यों को अनौपचारिक तौर पर कह दिया गया है कि अंतरराष्ट्रीय मैचों में इस नंबर की जर्सी नहीं पहनी जाए

इस विवाद के बाद ही BCCI ने भविष्य में किसी तरह के विवाद से बचने के लिए यह फैसला लिया है. हालांकि इंडिया ए या फिर किसी घरेलू मैच में खिलाड़ियों को 10 नंबर की जर्सी पहनने की छूट दी गई है. बीसीसीआई चाहता है कि 10 नंबर की जर्सी सिर्फ सचिन के नाम रहे और यह उनको खिलाड़ियों और बोर्ड की ओर से दिए गए सम्मान का एक प्रतीक बना रहे.