अब बिटकॉइन के जरिये चल रहा है प्रॉपर्टी खरीद का काला बाज़ार

फोटो साभार - बिटकॉइन

दिल्ली बेस्ड अब प्रॉपर्टी मार्केट में बिटकॉइन से ब्लैक मनी की बहार आई है जिसकी जांच शुरू हो चुकी है. हाल के महीनों में बिटकॉइन के निवेशकों के प्रोफाइल में भी बदलाव हुआ है. एक्सचेंजों ने बताया कि स्टॉक में ट्रेडिंग करने वाले कई लोग अब इस बाजार में उतरे हैं. हालांकि, भारत में बिटकॉइन को रेगुलेट नहीं किया जाता.

एक्सचेंज कॉइनसिक्योर टेक्नॉलजी के असिस्टेंट वाइस प्रेजिडेंट विवेक के. ने बताया, ‘हमें बहुत रिक्वेस्ट मिल रही हैं. पिछले हफ्ते में ही हमारे यहां रजिस्ट्रेशंस दोगुने हो गए. फुल कैपेसिटी से साइनअप हो रहे हैं.’ इस तरह के दूसरे एक्सचेंजों में जेबपे, यूनोकॉइन और Bitxoxo शामिल हैं. वहां भी साइनअप में अच्छी तेजी आई है.

लोगों की दिलचस्पी क्रिप्टो करंसी में बिना किसी कारण नहीं बढ़ी है. बिटकॉइन यानी बीटीसी की एक यूनिट की कीमत 28 नवंबर को 7,51,500 रुपये हो गई थी, जो 30 अगस्त को 3,16,200 रुपये थी. इसका मतलब है कि 3 महीने में इसमें 140 पर्सेंट की तेजी आई है. बिटकॉइन का करीबी प्रतिद्वंद्वी ईथर भी ऑल टाइम हाई लेवल पर ट्रेड कर रहा है. 28 नवंबर को इसकी एक यूनिट की वैल्यू 30,272 रुपये थी.

इस बारे में जेबपे के को-फाउंडर सौरभ अग्रवाल ने बताया, ‘हर तीन महीने पर हमारे यहां बिटकॉइन ट्रेडिंग वॉल्यूम दोगुना हो रहा है.’ उन्होंने बताया कि यह ट्रेंड लगातार जारी है. अग्रवाल ने कहा कि प्राइस मूवमेंट की वजह से बिटकॉइन ट्रेडिंग में लोगों की दिलचस्पी बढ़ी है.

यूनोकॉइन के प्रवक्ता ने बताया कि पिछले 3 हफ्ते से कंपनी रोजाना 5,000 नए यूजर्स का रजिस्ट्रेशन कर रही है. उन्होंने कहा कि अक्टूबर में इनकी संख्या प्रति दिन 3,000 थी. साल भर पहले एक्सचेंज के पास 1 लाख यूजर्स थे, जिनकी संख्या अब 7 लाख पहुंच गई है.