तापमान शून्य से नीचे, फिर भी पीएम मोदी का सपना पूरा करने में दिन-रात जुटे 200 लोग

पीएम नरेंद्र मोदी - फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाक़ांक्षी केदारपुरी पुनर्निर्माण योजना को समय पर पूरा करने के लिए उत्तराखंड सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही है और शून्य से नीचे तापमान में भी करीब 200 मजदूर भारी भरकम मशीनों के साथ प्राचीन हिमालयी धाम के चारों तरफ चल रही परियोजनाओं के पहले चरण को पूरा करने के लिए दिन-रात काम में जुटे हैं.

रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित केदारनाथ धाम आजकल निर्माण गतिविधियों का केंद्र बन गया है और केदारपुरी पुनर्विकास योजना के पहले चरण की विभिन्न परियोजनाओं के लिए तय समयसीमा तक काम पूरा करने के लिए करीब 200 मजदूर पोकलैंड और जेसीबी जैसी भारी भरकम मशीनों के साथ देर रात तक काम में जुटे हैं.’

जिलाधिकारी ने कहा कि अभी रात का तापमान शून्य से केवल दो डिग्री नीचे है और काफी हद तक मौसम अनुकूल है, इसलिए प्रयास यह है कि 12000 फुट से अधिक ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ में भीषण ठंड पड़ने से पहले ज्यादा से ज्यादा काम काम कर लिया जाएं. उन्होंने बताया कि मजदूरों को ऐसे मौसम में काम करने के लिए जैकेट, दस्ताने, जूते और ऊनी मोजे उपलब्ध कराए गए हैं.

घिल्डियाल ने बताया कि इस समय फोकस संगम से मंदिर तक 50 मीटर चौड़ी सडक का निर्माण, सरस्वती और मंदाकिनी के किनारे सुरक्षा दीवार और घाट बनाने तथा वर्ष 2013 में आयी प्राकृतिक आपदा में तबाह हो गई आदि गुरू शंकराचार्य के समाधि स्थल का पुनर्निर्माण समेत पहले चरण की 200 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के निर्माण को पूरा करने पर है.

उन्होंने बताया कि सरस्वती नदी के किनारे सुरक्षा दीवार और तट तथा मंदिर तक सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया जा चुका है, वहीं मंदाकिनी नदी के किनारे सुरक्षा दीवार बनाने और आदिगुरू के समाधि स्थल के पुनर्निर्माण की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) का कार्य भी अंतिम चरण में है.