पौधों को चरने पर उत्तर प्रदेश में घोड़ों और गधों को भेजा गया जेल

जालौन जिला जेल के अधीक्षक ने कारागार परिसर में साज-सज्जा के लिए लगाए गए पेड़-पौधों को चरने को लेकर दो घोड़ों और दो गधों को तीन दिन तक जेल में बंद रखा. उनके मालिक के आने पर सोमवार शाम उन्हें छोड़ दिया गया.

जेल अधीक्षक तुलसी राम शर्मा ने दावा किया, ‘जेल के सौंदर्यीकरण के लिए कई तरह के पेड़-पौधे परिसर में लगाए गए हैं. लेकिन इन घोड़ों और गधों ने उन्हें नुकसान पहुंचाया, तो मैंने इन्हें जेल में बंद कर दिया.’

पशुओं के मालिक कमलेश ने बताया कि उन्हें सोमवर शाम छोड़ा गया.