रुद्रपुर : सीएम रावत ने पंडित रामसुमेर शुक्ल को दी श्रद्धांजलि

रुद्रपुर, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने तराई के संस्थापक महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पंडित रामसुमेर शुक्ल की प्रतिमा पर माल्यार्पण करके उन्हें श्रद्धांजलि दी. इस दौरान पंडित शुक्ल की स्मृति में आयोजित प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि लचीली नजूल नीति तैयार करेंगे, ताकि लोगों को उसका लाभ मिल सके. कहा कि एनएच घोटाले की जांच वह सीबीआई से कराना चाहते थे, लेकिन सीबीआई ने जांच करना स्वीकार नहीं किया. इसलिए सरकार ने समानान्तर जांच कराई और आज दो पीसीएस अफसरों समेत दस लोग जेल में हैं.

रावत ने कहा कि सरकार के आठ महीने पूरे होने जा रहे हैं. हमने पहला निशाना भ्रष्टाचार पर किया. ऊधमसिंह नगर में एनएच 74 में मुआवजा घोटाला हुआ और बिहार के चारा घोटाले की तर्ज पर खाद्यान्न घोटाला हुआ. उन्होंने आरएफसी को बर्खास्त किया तथा तमाम अधिकारियों को स्थानांतरित किया. वह गरीबों का हक किसी को नहीं छीनने देंगे. कहा कि एनएच घोटाले में हमने सीबीआई जांच की मांग की थी, लेकिन सीबीआई ने जांच स्वीकार नहीं की, जिस कारण उन्होंने समानांतर जांच कराई. जांच अभी जारी है. जो भी दोषी होंगे वह जेल जरूर जाएंगे. सरकार संस्थागत भ्रष्टाचार को रोक रही है. कहा कि वह विकास करना चाहते हैं.

जनता सरकार पर भरोसा रखे, हम भ्रष्टाचार की कालिख से साफ निकलेंगे. हम सिंगल विंडो सिस्टम लागू कर रहे हैं, ताकि जनता को भटकना न पड़े. डेढ़ लाख बेघर लोगों को सरकार मकान देगी. शहरी क्षेत्र को खुले में शौच से मुक्त कर देंगे. बताया कि 39 हजार किसानों को दो फीसदी ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया है. इसके परिणाम देखकर इसकी सीमा बढ़ाने पर विचार किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड सरकार ने यह निर्णय लिया है कि वीरगति प्राप्त करने वाले जवानों के एक परिजन को सरकारी नौकरी दी जाएगी. यह भरोसा दिलाया कि रुद्रपुर मेडिकल कालेज का काम शीघ्र शुरू किया जाएगा.

कहा कि उन लोगों को शर्म आनी चाहिए जो कानून व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं. जब जेलर को जेल गेट पर गोली मारी गई तब कानून व्यवस्था पर कोई नहीं बोला. अब अपराधी को मारा गया तो कानून व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं. अपराधियों को छोड़ा नहीं जा रहा है. कहा कि चिकित्सकों की कमी को पूरा किया जा रहा है. सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि अधिकारी न्याय की भावना से कार्य करें.

भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश ने कहा कि फिल्म पद्मावती पर विवाद चल रहा है. इतिहास को तोड़ मरोड़ के पेश करने का प्रयास किया जा रहा है. महापुरुषों के बारे में बच्चों को जरूर जानकारी दी जाए. जो पीढ़ी अपने देश के महापुरुषों व इतिहास के बारे में नहीं जानती, वह देश गर्त में जाता है.कहा कि सरकार सीमाओं को सिकुडने न दे यह क्रांतिकारियों के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी. देश में ऐसी सरकार काम कर रही है जो समझौते वाली नहीं है. कोई यदि टेढ़ी नजर से देखेगा तो वह खुद को सुरक्षित नहीं समझे.

कार्यक्रम के आयोजक विधायक राजेश शुक्ला ने कहा कि पंडित राम सुमेर शुक्ल के जन्मदिवस पर प्रतिभाओं का सम्मान कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिनके पास भारत के प्रति सम्मान की भावना नहीं है, वह पढ़े लिखे पशु हैं. कहा कि तराई को बसाने वाले भूमिहीन मजदूर अभी जमीनों से वंचित हैं. उन्हें सम्मान देने की जरूरत है. श्री शुक्ला ने नजूल भूमि पर बैठे लोगों को निशुल्क फ्रीहोल्ड की मांग की. साथ ही कहा कि देवरिया गांव में ट्रंचिंग ग्राउंड बनाया जाना अनुचित है. धान के किसानों को मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद उचित मूल्य मिल रहा है. कहा कि उद्योगों को भी सहारा देने की जरूरत है. उन्होंने ऊधमसिंह नगर में जमीनों की रजिस्ट्री पर लगी रोक हटाने की मांग रखी. इस दौरान काबीना मंत्री प्रकाश पंत, यशपाल आर्या, भाजपा नेता संजय जी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट आदि मौजूद थे.