कैंसर बीमारी नहीं भगवान का न्याय है : हिमंत विश्व शर्मा

असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कैंसर की बीमारी पर विवादित बयान देकर अपने लिए मुसीबत खड़ी कर ली है. शर्मा ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, ‘कुछ लोग कैंसर जैसी घातक बीमारियों से इसलिए ग्रस्त हैं, क्योंकि उन्होंने अतीत में पाप किये हैं और यह ‘ईश्वर का न्याय’ है.’ उनके ट्वीट के बाद सभी आश्चर्य में पड़ कि मंत्री ने ये क्या बयान दे दिया है.

दरअसल, कैंसर बीमारी के लिए उन्होंने जो वजह बताई है, वह बेहद हास्याप्रद और तर्कहीन है.हिमंत विश्व शर्मा के विवादित बयान के बाद पूर्व वित्‍त मंत्री व कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने जवाबी ट्वीट कर उन पर निशाना साधा.उन्होंने कहा, ‘असम के मंत्री शर्मा कहते हैं कि कैंसर पापों के लिए ईश्वर का इंसाफ है.व्यक्ति के दल बदलने से भी यही होता है.’ इसके बाद शर्मा भी ट्वीट कर कांग्रेस पार्टी पर हमलावर हो गए.हिमंत विश्व शर्मा ने चिदंबरम पर अपने बयान के गलत बयानी का आरोप लगाया.उनके अनुसार उन्‍होंने बस यह कहा था कि हिंदू धर्म में यह मान्‍यता है कि पिछले जन्‍म के कर्मों से मनुष्‍य के दु:ख जुड़े हुए हैं.

इसके साथ ही हिमंत विश्व शर्मा ने चिदंबरम से पूछा कि क्‍या आप यह नहीं मानते हैं? बिल्‍कुल आपकी पार्टी में मुझे नहीं मालूम कि हिंदू धर्म दर्शन पर बात होती भी है? बता दें इस टिप्पणी के बाद से शर्मा सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर आ गए हैं.मंत्री ने मंगलवार को यहां शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में कहा कि ‘जब हम पाप करते हैं तो भगवान हमें सजा देता है.कई बार हम देखते हैं कि युवाओं को कैंसर हो गया या कोई युवा हादसे का शिकार हो गया.अगर आप पृष्ठभूमि देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि यह ईश्वर का न्याय है और कुछ नहीं.हमें ईश्वर के न्याय का सामना करना होगा.