उत्तर कोरिया की सेना में बदतर हैं महिला सैनिकों की स्थिति, झेलने पड़ते हैं ये अत्याचार

प्योंगप्यांग|…. उत्तर कोरियाई सेना में महिलाओं के साथ अत्याचारों का ऐसा सच सामने आया है कि जानकर रूह कांप जाएगी. इस सेना में महिलाओं को इतना कठिन प्रशिक्षण दिया जाता है कि उनके पीरियड्स समय से पहले ही रूक जाते है. ये खुलासा किया है उत्तर कोरिया की एक पूर्व महिला सैनिक ली सो येआन. उसका दावा है कि यहां महिला सैनिकों को व्यापक यौन हिंसा और उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है.

ली सो येआन ने बताया कि कुपोषण और तनावपूर्ण माहौल के कारण महिला सैनिकों के पीरियड्स बंद हो जाती है. उनकी महिला सहकर्मी खुश थी क्योंकि अगर पीरियड्स रहते तो उनकी स्थिति और भी बदतर हो जाती. इन महिला सैनिकों को बार-बार रेप का शिकार होना पड़ता है.ली सो येआन कहती हैं कि एक महिला के रूप में सबसे बड़ी मुश्किल थी ठीक से नहा न पाना क्योंकि गरम पानी की व्यवस्था नहीं थी.

पहाड़ के झरनों से एक पाइप जोड़ दिया जाता था और सीधे वहीं से पानी आता था. इस पानी में मेंढक और सांप भी निकल आते थे. 41 साल की सो येआन, विश्वविद्यालय प्रोफेसर की बेटी हैं और देश के उत्तरी हिस्से में पली बढ़ीं. उनके परिवार के अधिकांश लोग सैनिक थे और जब 1990 के दशक में देश में विनाशकारी अकाल आया तो खुद ही सेना में शामिल हो गईं. उन्होंने दस साल सेना में सेवाएं दी हैं.