पीएम मोदी ने उत्तराखंड ऑल वेदर रोड व केदारनाथ पुनर्निर्माण की समीक्षा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उत्तराखंड में चारधाम (ऑल वेदर रोड) परियोजना तथा केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा की तथा प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्ता के साथ इन्हें पूरा किए जाने की जरूरत बतायी.

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रगति समीक्षा के दौरान प्रधानमंत्री को उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने चारधाम सड़कों के बारे में जानकारी दी. इस परियोजना से केदारनाथ, बद्रीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री के लिए सुरक्षित, सुविधाजनक और सुगम यात्रा सुविधा तीर्थ यात्रियों को मिल सकेगी.

उत्पल कुमार ने बताया कि 11700 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली 889 किमी सड़क निर्माण के लिए समयसीमा तय करके कार्य किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा 889 किमी में से 395 किमी के कार्य स्वीकृत हुए थे, जिनमें से 340 किमी के कार्यों को विभिन्न एजेंसियों को दिया जा चुका है.

अस्थायी राजधानी देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति में उत्पल कुमार ने कहा कि सड़क के दोहरीकरण के लिए भूमि जनवरी के पहले सप्ताह में सौंप दी जाएगी और मुआवजा वितरण के लिए मिली 190 करोड़ रुपये की धनराशि में से 145 करोड़ 10 हजार रुपये किसानों को वितरित कर दी गयी है. नवम्बर में प्राप्त 28.54 करोड़ रुपये का वितरण एक हफ्ते में हो जाएगा.

इस महत्वाकांक्षी परियोजना में सात पैकेज हैं, जिनमें 140 किमी ऋषिकेश-रुद्रप्रयाग मार्ग, 95 किमी धरासू-यमुनोत्री मार्ग, 76 किमी रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड मार्ग, 150 किमी टनकपुर-पिथौरागढ़ मार्ग, 160 किमी रुद्रप्रयाग-माणा मार्ग, 144 किमी पीआयू मार्ग और 124 किमी धरासू-गंगोत्री मार्ग शामिल हैं.

केदारनाथ पुनर्निर्माण के बारे में मुख्य सचिव ने प्रधानमंत्री को बताया कि केदारनाथ में सरस्वती नदी पर तेजी से कार्य चल रहा है. उन्होंने बताया कि मंदाकिनी नदी का कार्य भी स्वीकृत हो गया है, जिस पर जल्द कार्य शुरू हो जाएगा.

प्रधानमंत्री ने मुख्य सचिव से कहा कि केदारनाथ धाम को भव्य स्वरूप प्रदान करना उनकी प्राथमिकता है और वह ड्रोन के जरिए खुद भी केदारनाथ के पुनर्निर्माण कार्यों को देखेंगे.

मुख्य सचिव ने प्रधानमंत्री को बताया कि उन्होंने दो बार मौके पर जाकर पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लिया है और बर्फबारी के बावजूद निम द्वारा कार्य किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि वहां सीसीटीवी लगा दिए गए हैं और वह अपने ऑफिस में बैठकर निर्माण कार्यों की नियमित निगरानी कर रहे हैं.