पीएम मोदी ने 5वें साइबर स्पेस सम्मेलन में गवर्नेंस मोबाइल एप ‘उमंग’ किया लॉन्च

गुरुवार को भारत में पहली बार आयोजित हो रहे साइबर स्पेस पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का प्रधानमंत्री मोदी ने उद्घाटन किया और गवर्नेंस मोबाइल एप ‘उमंग’ लॉन्च की. नई दिल्ली में दो दिन तक चलने वाले इस प्रतिष्ठित सम्मेलन में प्रौद्योगिकी के विश्व से संबंधित पहलुओं पर चर्चा करने के लिए प्रमुख हितधारकों को एक साथ लाया जाता है. इससे पूर्व इस सम्‍मेलन यह वर्ष 2011 में लंदन में, वर्ष 2012 में बुडापेस्ट में, वर्ष 2013 में सियोल में और वर्ष 2015 में हेग में आयोजित किया गया था.

इस सम्मेलन में लगभग 124 देशों से 10 हजार लोग हिस्सा ले रहे हैं. पीएम ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “दोस्तों हम जानते हैं कि पिछले दो दशकों में साइबर स्पेस ने कैसे दुनिया बदली है. हम 70 के दशक के बड़े आकार के कंप्यूटर याद करने लगते हैं. भारत की प्रतिस्पर्धा इस मामले में विकसित देशों से है. मोबाइल फोन अब डाटा स्टोर करने और कम्यूनिकेशन करने का सबसे बड़ा टूल है.”डिजिटल दुनिया में बड़े बदलाव अब और तेज हो रहे हैं. ये दुनिया के साथ-साथ भारत में भी नजर आ रहा है.

भारत के आईटी टैलेंट को दुनिया में पहचान मिली है. भारतीय आईटी कंपनी ने भी दुनिया में अपना नाम बनाया है. इस दो दिवसीय सम्‍मेलन में 33 देशों तथा भारत के सभी राज्यों के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री भी शिरकत करेंगे.आज डिजिटल टेक्नॉलजी एक बड़ा उद्योग बन चुका है.टेक्नॉलजी ने बैरियर तोड़ दिए हैं.

इसमें भारतीय दर्शन ‘वसुधैव कुटंबकम्’ की झलक नजर आती है, दुनिया एक परिवार है.डिजिटल क्रांति की मदद से आज एक किसान कई तरह की सुविधाओं का इस्तेमाल कर सकता है. उदाहरण के लिए मृदा परीक्षण, डिजिटल क्रांति उन्हें बेहतर आमदनी में मदद कर रही है.

इस कार्यक्रम में प्रमुख मंत्रियों के साथ-साथ देश-विदेश के बड़े व्यापारी शामिल होंगे. इसमें तकनीक के क्षेत्र से जुड़े मामलों पर बातचीत होनी है. फ्रांस, नीदरलैंड, इजरायल, मेक्सिको और यूके के मंत्री भी इसमें हिस्सा लेने पहुंच चुके हैं.
कार्यक्रम में हौलीन झाओ (इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन के सेक्रेटरी जनरल), मुकेश अंबानी (चेयरमैन, रिलायंस इंडस्ट्रीज), सुनील भारती मित्तल (फाउंडर एंड चेयरमैन,भारती इंटरप्राइज) के साथ-साथ और प्रमुख व्यवसायी अपनी बात कहेंगे. कार्यक्रम में लगभग 3,500 लोग पहुंच रहे हैं.