कोर्ट परिसर में बदमाशों से लोहा लेने वाले तीनों जाबांज पुलिसकर्मी वीरता पुरस्कार से नवाजे जाएंगे

रुड़की, अपनी जान पर खेल कर बदमाशों की गोली के सामने अपनी छाती ठोंककर बदमाश देवपाल राणा के शूटरों को दबोचने वाले जाबांज बहादुर पुलिसकर्मियों को उनके अदम्य साहस के लिये वीरता पुरस्कार से नवाजा जायेगा. इन पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने की संस्तुति एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने कर दी है.

इनके अलावा आईआरबी द्वितीय के कमांडेंट अरूण मोहन जोशी ने दोनों बहादुर पुलिसकर्मियों को उनकी कर्तव्यनिष्ठा के लिये शाबासी दी है. उन्होंने दोनों जवानों की पीठ थपथपाकर भविष्य में इसी प्रकार पर खाकी का मान बढाने के लिये उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है. उन्होंने कहा कि दोनों जवानों ने बहुत बहादुरी का कार्य किया है जनपद से रिपोर्ट आने के लिये वीरता पुरस्कार आने की संस्तुति कर दी जायेगी. रूड़की कोर्ट परिसर में पेशी पर आये बदमाश देवपाल राणा की हत्या करने आये बदमाशों के सामने तीन बहादुर पुलिसकर्मी छाती ठोककर खडे हो गये.

पुलिसकर्मियों ने बिना घबराये बदमाशों को पकड़ने के लिये झपट गये. शूटरों ने पुलिसकर्मियों की पकड़ से निकलने का प्रयास किया. लेकिन खाकी पहनकर देश सेवा का संकल्प लेने वाले बहादुर पुलिसकर्मियों ने अपने कर्तव्यनिष्ठा का पालन किया. उन्होंने जिंदगी की परवाह नहीं की और शूटरों को पकड़कर रखा. इस बहादुर पुलिसकर्मियों में दो जवान आईआरबी द्वितीय के सर्वेश कुमार और नवनीत चौधरी है जबकि एक गंगनगर कोतवाली में तैनात कोर्ट के पैरोकार ललित शर्मा है.

इन तीनों जवानों के अदम्य साहस के लिये वीरता पुरस्कार की संस्तुति एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने कर दी है. जबकि आईआरबी के जवानों को जनपद पुलिस की रिपोर्ट मिलने के बाद आईआरबी द्वितीय के कमांडेंट अरूण मोहन जोशी करेंगे. उन्होंने बताया कि दोनों जवानों ने बहादुरी का कार्य किया है. रिपोर्ट आने के बाद दोनों पुलिसकर्मियों के नामों को बहादुरी पुरस्कार के लिये भेजा जायेगा.