रक्षा मंत्रालय ने रद्द किया इजरायल से 500 मिलियन डॉलर का रक्षा सौदा

ने इजरायल के साथ हुए 500 मिलियन डॉलर की सौदे को रद्द कर दिया है. भारत और इजरायल के बीच यह डील मैन-पॉर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम)  के लिए की गई थी.

रक्षा मंत्रालय को ऐसा लगा है कि बिना किसी दूसरे देश की तकनीकी सहायता के लिए यह मिसाइल भारतीय हथियार निर्माता भी 3-4 साल के अंदर बनाने में सक्षम हो जाएंगे. भारत को यह स्पाइक एटीजीएम मिसाइलें राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम बनाने वाली कंपनी सप्लाई करने वाली थी.

रक्षा मंत्रालय ने इंडियन एक्सप्रेस को यह बताया कि इस वक्त विदेश से एंटी टैंक मिसाइलों को आयात करने के कारण डीआरडीओ द्वारा स्वदेशी प्रणाली से हथियारों के निर्माण करने के कार्यक्रम पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, जिसकी वजह से ही भारत ने इजरायल के साथ की ये डील को रद्द करने का फैसला किया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इस डील को रद्द करने का निर्णय स्वदेशी कार्यक्रमों की रक्षा करने के लिए गया है क्योंकि माना जा रहा है कि विदेशी एटीजीएम बनाने वाली कंपनियां रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के की कोशिशों पर नकारात्मक  असर हो सकता हैं.