सब्जियों के बाद अब अंडों ने भी लगाया महंगाई का तड़का

सब्जियों व फलों की महंगाई की आग थमी नहीं थी कि अब अंडों को भी महंगाई का तड़का लग गया है. सर्दी की दस्तक के साथ ही महंगाई के बोझ ने आम लोगों की रसोई का बजट बिगाड़ दिया है. अंडे के दाम इतने बढ़ गए कि चिकन की कीमत को भी पीछे छोड़ दिया है. कुछ दिनों पहले तक जो अंडा 5 रुपए में मिल रहा था अब उसका दाम 7 रुपए हो गया है. पिछले छह महीनों में अंडे की कीमतों में यह बड़ा उछाल है.

अंडे की डिमांड में बढ़ौतरी
पुणे में मुर्गी पालन केंद्रों पर 100 अंडों की क्रेट 585 रुपए में बेची जा रही है, जिससे रिटेल में अंडे के दाम 6.5-7.5 रुपए तक पहुंच गए हैं. वहीं, ब्रॉयलर के दाम 62 रुपए प्रति किलो हैं. इस लिहाज से देखें तो अंडा ज्यादा महंगा बिक रहा है. राष्ट्रीय अंडे समन्वय समिति (एन.ई.सी.सी.) के मुताबिक अंडे की मांग बढ़ रही है इसलिए इसकी कीमत में 15 फीसदी की तेजी आई है.

उनके मुताबिक जब सब्जियां महंगी होती हैं, तो लोग अंडे खरीदने लगते हैं. यही वजह है जब अंडों की डिमांड बढ़ती है तो डिमांड बढ़ते ही कीमत भी बढ़ जाती है. पिछले काफी दिनों से टमाटर की कीमत में भी उछाल है जो कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं.

यह है इसकी असली वजह
कर्नाटक और तमिलनाडु में सूखे के चलते मक्का की फसल पर असर पड़ा है. मक्का पोल्ट्री प्रोडक्शन के लिए सबसे जरूरी है. मक्का के दाम भी इन दिनों रिकॉर्ड 1900 प्रति क्विंटल पर हैं. चूंकि पोल्ट्री किसान कम प्राप्तियों और उच्च लागतों के बीच फंसे हैं. उनमें से कई ने अपने पक्षियों को समयपूर्व ही काट दिया, जिसका असर सीधे सप्लाई पर दिख रहा है.