संदिग्ध परिस्थितियों में आईआईएम के छात्र ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

काशीपुर, संदिग्ध परिस्थितितियों में भारतीय प्रबंधन संस्थान आईआईएम के छात्र द्वारा फांसी लगाकर खुदकुशी करने की सूचना पर यहां पहुंचे मृतक छात्र के मामा व जिला जज अहमदाबाद निवासी एसएल ठक्कर शव को अपने साथ हल्द्वानी ले गये. ताबूत में रखे गये शव को हल्द्वानी ले जाकर उस पर कैमिकल आदि लगाने की मेडिकल कार्यवाही होने के बाद शव को प्लेन या एयर एम्बुलेंस द्वारा उसे अहमदाबाद ले जाया जाएगा.

बता दें कि यश बसंती भाई ठक्कर पुत्र बसंती ठक्कर भारतीय प्रबंध् शास्त्र के प्रथम वर्ष का छात्रा था. वह डी 4 ब्लॉक में रहता था. इस समय संस्थान में परीक्षा चल रही है. गत शाम चार से छह बजे तक उसकी परीक्षा थी. वह परीक्षा में उपस्थित नहीं था. जब उसके साथी परीक्षा देने के बाद उसके कमरे पर गये तो अंदर से दरवाजा बंद था. उसने आवाज लगाई और मोबाइल पर फोन किया तो अंदर से कोई आवाज नहीं आई. इस पर शक होने पर उसने शिक्षकों को बताया. सूचना पर संस्थान के निदेशक डा. गौतम सिन्हा भी मौके पर पहुंचकर आवाज लगाई, मगर कमरे में कोई हरकत नहीं हुई. इस पर उन्होंने कुंडेश्वरी पुलिस चौकी को सूचना दी.

सूचना पर सीओ राजेश भट्टे व कोतवाल चंचल शर्मा, चौकी इंचार्ज दिनेश फर्त्याल भी मौके पर पहुंच गए. बाद में कुंडेश्वरी पुलिस मौके पर पहुंचकर संस्थान में रखी दूसरी चाभी से दरवाजा का ताला खोला तो यश सीलिंग फैन में शॉल से बांध्कर लटका हुआ पाया गया. पुलिस ने पंखे से शव उतारकर उसका पंचनामा भर आज पोस्टमार्टन कराने के बाद उसके मामा को सौंप दिया है.

उन्होंने बताया कि यश बंसती ने परिवार या उनसे कभी कोई परेशानी साझा नहीं की, यदि उसे कोई परेशानी थी तो वह उसे परिजनों के साथ साझा करता तो उसका हल निकाला जा सकता था. उधर, मृतक छात्र यश बंसती का पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सक ड. मदन मोहन ने पोस्टमार्टम करने के बाद बताया कि मृतक की मौत करीब अब से 36 घंटे पहले हो चुकी है, प्रथम दृष्टता छात्र की मृत्यु दम घुटने से ही बतायी गयी है.